🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँबादशाह का तोता (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह का तोता (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह का तोता (बादशाह अकबर और बीरबल)

एक व्यक्ति दरबार में तोता बेचने आया| वह तोता बहुत ही अच्छी नस्ल का था और बहुत ही अच्छा बोलता भी था| अकबर को तोता पसंद आ गया और उन्होंने उसे खरीद लिया|

“बादशाह का तोता” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

बादशाह अकबर ने उस तोते की सेवा के लिए एक सेवक नियुक्त कर दिया| उस सेवक का कार्य केवल उस तोते की देखरेख करना था| बादशाह ने उसे सख्त हिदायत दे रखी थी कि यदि कोई भी कोताही बरती गई तो उसका सिर कलम कर दिया जाएगा|

कुछ दिन तक तो सबकुछ ठीक-ठाक रहा किन्तु उसके पश्चात एक दिन अचानक ही तोता मर गया| अब सेवक की जान सांसत में आ गई, वह समझ नहीं पा रहा था कि तोते के मरने की सूचना किस प्रकार बादशाह को दे| उसे जब कोई उपाय न सूझा तो उसने बीरबल से सलाह ली|

बीरबल ने सेवक को सांत्वना दी और उसे निश्चिंत कर वापस भेज दिया| बादशाह को इसकी सूचना देने की जिम्मेदारी उसने अपने ऊपर ले ली|

इसके बाद बादशाह अकबर के पास गया बीरबल और बोला – “हुजूर, आपका तोता…|”

इतना सुनते ही बादशाह अकबर उतावले होकर बोले-“क्या हुआ तोते को, मर गया क्या?”

“नहीं हुजूर, आपके तोते ने समाधि लगा ली है….वह न खा-पी रहा है और न हिल रहा है, बस केवल आंखें बंद करके समाधि में लीन है|”

बादशाह अकबर तुरन्त तोते को देखने गए| वहां जाकर देखा कि तोता मर चुका था| इस पर वह बीरबल से बोले -“इतना घुमा-फिरा कर क्यों कहा, सीधा कह देते कि तोता मर गया है|”

“हुजूर, तोते के मारने का समाचार देने पर आप मृत्युदण्ड दे सकते थे| तभी इस तरह कहना पड़ा|”

अकबर को अपनी ही कही बात याद आ गई जो उन्होंने तोते के संदर्भ में सेवक से कही थी| वह समझ गए कि बीरबल ने इस तरह सूचना देकर तोते के सेवक की जान बचा ली है|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏