🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँदूसरे की गलती से सीखें – शिक्षाप्रद कथा

दूसरे की गलती से सीखें – शिक्षाप्रद कथा

दूसरे की गलती से सीखें - शिक्षाप्रद कथा

किसी जंगल में एक सिंह, एक गधा और एक लोमड़ी रहते थे| तीनों में गहरी मित्रता थी| तीनों मिलकर जंगल में घूमते और शिकार करते| एक दिन वे तीनों शिकार पर निकले| उन तीनों में पहले से ही यह समझौता था कि मारे गए शिकार के तीन बराबर भाग किए जाएंगे|
अचानक उन्होंने एक बारहसिंगा देखा| वह खतरे से बेखबर घास चार रहा था| तीनों ने मिलकर उसका पीछा किया और अंत में सिंह ने उसे मार गिराया|

अब सिंह ने गधे से कहा कि वह मरे हुए शिकार के तीन भाग करे| गधे ने शिकार के तीन भाग किए और सिंह से अपना एक भाग ले लेने के लिए कहा| यह देखकर सिंह क्रोधित हो गया| उसने गधे पर हमला कर दिया और अपने नुकीले दांतों और पंजों से गधे को चीर-फाड़ दिया| उसके बाद उसने लोमड़ी से कहा कि वह अपना हिस्सा ले ले| लोमड़ी बहुत चालाक और बुद्धिमान थी| उसने बारहसिंगे का तीन चौथाई से अधिक भाग सिंह की सेवा में अर्पित कर दिया और अपने लिए केवल एक चौथाई से भी कम भाग रखा| यह देखकर सिंह बहुत प्रसन्न हुआ और बोला – “तुमने मेरे भोजन की सही मात्रा निकाली है| सच बताओ, कहां से यह चतुराई सीखी?”

चालाक लोमड़ी बोली – “महाराज! मेरे हुए गधे को देखकर मैं सब समझ गई| उसकी मूर्खता से ही मैंने सीखा है|”

शिक्षा: दूसरों की गलतियों से सीख हासिल करनी चाहिए|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏