🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँभूल का फल – शिक्षाप्रद कथा

भूल का फल – शिक्षाप्रद कथा

भूल का फल - शिक्षाप्रद कथा

रात में वर्षा हुई थी| सबेरे रोज से अधिक चमकीली धूप निकली|
बकरी के बच्चे ने माँ का दूध पिया, भर पेट पिया| फिर घास सूँघकर फुदका| गीली नम भूमि पर उसे कूदने में बड़ा मजा आया और वह चौकड़ीयाँ भरने लगा| पहले माता के समीप उछलता रहा और फिर जब कानों में वायु भर गयी तो दूर की सूझी|

माँ ने कहा – ‘बेटा! दूर मत जा| कहीं जंगल में भटक जायगा|’

वह थोड़ी दूर निकल गया था| उसने वहीं से कह दिया – ‘मैं थोड़ी देर में खेल-कूदकर लौट आऊँगा| तू मेरी चिन्ता मत कर| मैं रास्ता नहीं भूलूँगा|’

माता मना करती रही, लेकिन वह तो दूर जा चुका था| उसे अपनी समझ पर अभिमान था और माता के मन करने पर उसे झुँझलाहट भी आयी थी|

वह कूदने में मस्त था| चौकड़ी लगाने में उसे रास्ते का पता ही नहीं रहा| उसने जंगल को देखा और यह सोचकर कि थोड़ी दूर तक आज जंगल भी देख लूँ, आगे बढ़ गया| सचमुच वह जंगल में भटक गया और इसका पता उसे तब लगा, जब वह कूदते-उछलते थक गया| जब उसने लौटना चाहा तो उसे रास्ते का पता ही नहीं था| वह कँटीली घनी झाड़ियों के बीच रास्ता ढूँढने के लिये भटकता ही रहा|

‘अरे, तू तो बहुत अच्छा आया| मुझे तीन दिन से भोजन नहीं मिला है|’ पास की झाड़ी से एक बड़ा-सा भेड़िया यह कहते हुए निकल पड़ा|

बकरी के बच्चे को न तो उत्तर देने का अवकाश मिला और न रोने का| उसे केवल मन में अपने मालिक गड़ेरिये की एक बात स्मरण आयी –

मातु पिता गुरु स्वामि सिख सिर धरि करहिं सुभायँ|
लहेउ लाभु तिन्ह जनम कर नतरु जनमु जग जायँ||

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏