🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeभजन संग्रहश्री गौरी अम्बे माँ के भजनहे माँ मुझको ऐसा घर दो जिसमें तुम्हारा मन्दिर हो

हे माँ मुझको ऐसा घर दो जिसमें तुम्हारा मन्दिर हो

भजन संग्रह - श्री गौरी अम्बे माँ के भजन - हे माँ मुझको ऐसा घर दो जिसमें तुम्हारा मन्दिर हो

हे माँ मुझको ऐसा घर दो जिसमें तुम्हारा मन्दिर हो,
ज्योति जले दिन रैन तुम्हारी, तुम मन्दिर के अन्दर हो ।
हे माँ मुझको ऐसा घर दो जिसमें तुम्हारा मन्दिर हो,
ज्योति जले दिन रैन तुम्हारी, तुम मन्दिर के अन्दर हो ।

एक कमरा हो न्यारा, जिसमें आसन माँ का लगा रहे,
हर पल, हर क्षण भक्तों का वहाँ आना जाना लगा रहे ।
छोटे बड़े का ऐसे घर में माँ एक सम्मान ही आदर हो ।
ज्योति जले दिन रैन तुम्हारी, तुम मन्दिर के अन्दर हो ।

इस घर का हर एक प्राणी माँ तेरी महिमा गाता है ।
तू रख ले जिस हाल में मैया हरदम खुशी मनाता है ।
कभी हिम्मत न हारे वो माँ चाहे समय भयंकर हो ।
ज्योति जले दिन रैन तुम्हारी, तुम मन्दिर के अन्दर हो ।

इस घर से कोई भी सवाली खाली हाथ न जाये माँ
तब तक चैन न पाये बेटा, जब तक चैन न पाये माँ ।
मुझको दो वरदान दया का, तुम तो दया की सागर हो ।
ज्योतिजले दिन रैन तुम्हारी, तुम मन्दिर के अन्दर हो ।

ऐसी बुद्धि करना हे माँ, हम सब हरदम तेरी सेवा करे,
चाहें दूर ही रखना माँ, सेवक मेरे पास रहे ।
सेवक पास रहेंगे मैया, हम संकट से निडर रहें ।
ज्योति जले दिन रैन तुम्हारी, तुम मन्दिर के अन्दर हो ।

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏