Homeभक्त बुल्ले शाह जी काफियांबेक़ैद – काफी भक्त बुल्ले शाह जी

बेक़ैद – काफी भक्त बुल्ले शाह जी

बेक़ैद

मैं  बेक़ैद, मैं बेक़ैद;
ना रोगी, ना वैद|

ना मैं मोमन, ना मैं फाक़र,
ना सैयद, ना सैद|

चौधीं तबक़ीं सैर असाडा,
किते ना हुंदा क़ैद|

ख़राबात है जात असाडी,
ना सोमा, ना ऐब|

बुल्ल्हेशाह दी ज़ात की पुच्छनै,
ना पैदा ना पैद|

मैं बन्धन-मुक्त

मैं किसी क़ैद में नहीं, किसी भी बन्धन में बंधा नहीं रह गया हूं| मैं न तो रोग की क़ैद में हूं, और न वैद की क़ैद में|

मैं मोमिन1 नहीं हूं और काफ़िर2 भी नहीं हूं| मैं सैयद3 हूं, और सैद4 भी नहीं हूं|

चौद हो तनकों5 (भुवनों) में हम घूमते हैं| सर्वत्र आना-जाना होने पर भी हम कहीं क़ैद नहीं होते| हम कहीं किसी मोहपाश में नहीं बंधते|

हमारी प्रकृति ही मस्ती या बेख़ुदी की है| हम अपने में न कोई शोभाशाली गुण मानते हैं और न हममें कोई अवगुण है|

बुल्लेशाह के वजूद की बात क्या पूछते हो, वह तो है ही नहीं, गुम है| न पैदा हुआ है और न पैदा होगा अर्थात वह आवागमन से मुक्त हो गया है|

हम गुम ह
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏