🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeभक्त बुल्ले शाह जी काफियांअब तो जाग – काफी भक्त बुल्ले शाह जी

अब तो जाग – काफी भक्त बुल्ले शाह जी

अब तो जाग

अब तो जाग मुसाफ़र प्यारे,
रैन गई लटके सब तारे| टेक|

आवागौन सराईं डेरे,
साथ तिआर मुसाफ़र तेरे,
अजे न सुणिओं कूच नगारे|

कल लै अज करनी दा बेरा,
मुड़ ना हो सी आवण तेरा,
साथी चल्लो पुकारे|

मोती, चुनी, पारस, पासे,
पास समुन्दर मरो पिआसे,
खोल्ह अक्खीं उठ बौह बेकारे|

बुल्ल्हा शौह दे पैरीं पड़िये,
ग़फ़लत छोड़ कुझ हीला करिये,
मिरग जतन बिन खेत उजाड़े|

अब तो जाग 

प्यारे मुसाफ़िर, अब तो जाग जा| रात बीत गई है और सभी तारे लटक चुके हैं (छिप चुके हैं), जीवन तो आना और जाना है| इस संसार में रहना सराय (मुसाफ़िरख़ाने) में टिकने जैसा है| तेरे साथ और भी कई मुसाफ़िर (चलने के लिए) तैयार बैठे हैं, क्या तुने अभी तक कूच-नक्कारे की आवाज़ नहीं सुनी?

तेरा यह समय कुछ कर डालने का समय है, इसलिए उत्तम करनी कर ले| तुझे यहां दोबारा आने का अवसर नहीं मिलेगा| तेरे साथी बार-बार पुकारकर कर रहे हैं कि ‘चलो, चलो’| चलने के समय अर्थात मृत्यु आने पर मोती, अन्न या पारसमणि सब पड़े रह जाएंगे, (किन्तु तेरे किसी काम न आएंगे) जैसे पास ही समुद्र हो, किन्तु प्यासे के किसी काम न आए| अरे निकम्मे, (अब भी) आंखें खोल ले| बुल्लेशाह कहते हैं, शोह (प्रिय, पति, परमात्मा) के चरणों में ख़ुद को डाल दे, गफ़लत (ऊंघ,लापरवाही) छोड़कर भले काम के लिए कुछ उद्यम कर| यदि तू सावधान रहकर यत्न नहीं करेगा, तो मायामृग तेरे खेत को उजाड़ जाएगा|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏