🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु अमर दास जीश्री गुरु अमर दास जी - साखियाँभाई मल्ल को उपदेश देना – साखी श्री गुरु अमर दास जी

भाई मल्ल को उपदेश देना – साखी श्री गुरु अमर दास जी

भाई मल्ल को उपदेश देना

एक बार एक सिक्ख जिसका नाम भाई मल्ल था| वह गुरु जी के पास आया| उसने गुरु जी से पूछा, महाराज! मेरा मन भटकन में रहता है|

भाई मल्ल को उपदेश देना सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

भटकन के कारण अशान्ति रहती है| मन में कलह-कलेश की भावना रहती है| आप ऐसा कोई उपदेश दें जिससे मन को शान्ति प्राप्त हो| गुरु जी मुस्कुरा पड़े और कहने लगे, “सबसे पहले तो आप अपने अंदर का अहम भाव त्यागें| अहंम भाव के समाप्त होते ही अंदर निमाणपन व नम्रता का भाव पनप उठेगा| श्रद्धा व सत्कार के साथ संतों की सेवा करो| अन्न व वस्त्र का दान करो| आप सत्यनाम का स्मरण करो| मन को शान्ति अवश्य मिलेगी| गुरु जी के ऐसे बचन सुनकर भाई मल्ल गद-गद हो गया|

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

पृथी मल
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏