🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु नानक देव जीश्री गुरु नानक देव जी - साखियाँराजा शिवनाथ को उपदेश – साखी श्री गुरु नानक देव जी

राजा शिवनाथ को उपदेश – साखी श्री गुरु नानक देव जी

राजा शिवनाथ को उपदेश

श्री गुरु नानक देव जी अनन्त जीवों का सुधार व उद्धार करते हुए नागापटम से समुद्र के किनारे रामेश्वरम पहुंचे|

“राजा शिवनाथ को उपदेश – साखी श्री गुरु नानक देव जी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

संगलादीप पहुंच कर राजा शिवनाथ को सत्यनाम देकर आपने कृतार्थ किया| श्री गुरु नानक देव जी की आज्ञानुसार राजे ने धर्मशाला बनवाई और सत्य का संग (सत्संग) की नींव रखी|

हठ योग के अनुसार प्राणायाम करने के लिए गुरु जी ने राजा को जो साधन समझाया वह पोथी के रूप में लिखा गया, जिसका नाम प्राणसंगली प्रसिद्ध हुआ|

श्री गुरु नानक देव जी – जीवन परिचय

 

श्री गुरु नानक देव जी – ज्योति ज्योत समाना

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏