🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु नानक देव जीश्री गुरु नानक देव जी - साखियाँपंडों को भ्रम से निकालना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

पंडों को भ्रम से निकालना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

पंडों को भ्रम से निकालना

गुरु जी गया पहुंचे| यह शहर गयासुर दैंत्य का बसाया हुआ है, जिसके नाम पर ही इसका नाम गया प्रसिद्ध है| हिन्दुओं के विश्वास अनुसार यहां प्राणियों के पिंड बनाने से उनकी गति हो जाती है|

“पंडों को भ्रम से निकालना – साखी श्री गुरु नानक देव जी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

जब गुरु जी यहां पहुंचे तो पंडो ने आपको भी अपने पितृों की गति के लिए पिंड भराने को कहा| गुरु जी ने वहां शब्द का उच्चारण किया| इस शब्द का मूल भाव समझाकर गुरु जी ने बताया कि अपने हाथ से किया हुआ दान कभी समाप्त नहीं होता|

इसलिए अपने जीते जी हाथों से दान करना ही लोक-परलोक में सहायक होता है| तत्पश्चात प्राणी नमित पिंड आदि भरवाने और अन्य दान-पुण्य करना उसके किसी काम नहीं आता|

श्री गुरु नानक देव जी – जीवन परिचय

 

श्री गुरु नानक देव जी – ज्योति ज्योत समाना

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

पानी का
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏