🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु नानक देव जीश्री गुरु नानक देव जी - साखियाँगुरु जी का कैलाश पर्वत योगियों से मिलना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

गुरु जी का कैलाश पर्वत योगियों से मिलना – साखी श्री गुरु नानक देव जी

गुरु जी का कैलाश पर्वत योगियों से मिलना

श्री गुरु नानक देव जी हेम कुन्ट के रास्ते बदरी नाथ पहुंचे| वे वहां कैलाश पर्वत पर सिद्ध-मण्डली के स्थान मानसरोवर के पास पहुँच गए| वहां गुरु जी को 84 सिद्ध व गोरख नाथ मण्डली मिली| उन्होंने गुरु जी से प्रश्न किया – हे बालक! आपको यहां कौन सी शक्ति लेकर आई है?

“गुरु जी का कैलाश पर्वत योगियों से मिलना – साखी श्री गुरु नानक देव जी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

गुरु जी ने उत्तर दिया – मैंने एक परमेश्वर का स्मरण किया है और प्रेमा भक्ति के साथ लिव लगाई है जिसकी शक्ति से मैं यहां आया हूं| सिद्धों ने कहा, हे बालक! आप अपना नाम बताएं? गुरु जी ने कहा – मेरा नाम नानक है| परमेश्वर का नाम जपकर मैंने यह पद प्राप्त किया है| अपने आप को नीच कहलाकर ही उच्च पद प्राप्त किया जाता है|

हे सिद्धों! आप पहाड़ों में छिपकर बैठे हो संसार की मुक्ति और कौन करे? आप दिन रात शरीर पर खाक लगा कर रहते हो और कोई भी भलाई का कार्य आप नहीं करते| सिद्धों ने ऐसा सुनकर करामातें दिखानी शुरू कर दी| उन करामातों से गुरु जी को वश में करने का यत्न भी किया| परन्तु वे विफल रहे| गुरु जी के ऊपर कुछ असर न होता देख सभी सिद्ध आदेश-आदेश और अलख-अलख के बोल बोलते उठकर इधर उधर हो गए|

श्री गुरु नानक देव जी – जीवन परिचय

 

श्री गुरु नानक देव जी – ज्योति ज्योत समाना

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏