Homeमंत्र संग्रहगर्भ रक्षा के लिए मन्त्र व विधि

गर्भ रक्षा के लिए मन्त्र व विधि

मंत्र क्या है? - What is mantra?

गर्भ रक्षा के लिए मन्त्र व विधि इस प्रकार है|

द्रोण पर्वतं यथा वद्धं शीतार्थे|
राघवेण उतं तथा वंधयिष्यामि||
अमुकस्य गर्भ मापत उमा विशिर्यऊ स्वाहा|
ॐ त्तद्यथाधर धारिणी गर्भ रक्षिणी||
आकाश मात्र के हुं फट् स्वाहा||

गर्भ रक्षा के लिए मन्त्र की विधि इस प्रकार है|

लाल डोरे को इस मन्त्र से 21 बार जप कर 21 गाँठ देवें| फिर गर्भिणी की कमर में बांध देने से गर्भ क्षय नहीं होता| किन्तु 7 मास पूरे होने पर उस डोरे को खोल देना चाहिए|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏