🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारतेजी से दिल धड़कने के 21 घरेलु उपचार – 21 Homemade Remedies for Fast Heart Beat

तेजी से दिल धड़कने के 21 घरेलु उपचार – 21 Homemade Remedies for Fast Heart Beat

वास्तव में दिल की धड़कन कोई रोग नहीं है| किन्तु जब दिल तेजी से धड़कने लगता है तो मनुष्य के शरीर में कमजोरी आ जाती है, माथे पर हल्का पसीना उभर आता है तथा पैर लड़खड़ाने लगते हैं|

“तेजी से दिल धड़कने के 21 घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Fast Heart Beat Listen Audio

रोगी को लगता है, जैसे वह गिर जाएगा| दिल धड़कने की क्रिया भय, हानि की आशंका, परीक्षा में असफलता, ट्रेन का अचानक छूटना, किसी प्रिय की मृत्यु आदि घटनाओं को देखने-सुनने के बाद शुरू हो जाती है|

यह एक प्रकार की चिन्ताजन्य घबराहट होती है जिसकी वजह से दिल बड़ी तेजी से धड़कने लगता है| यदि उसी क्षण मनुष्य मन से चिन्ता तथा भय को निकाल दे तो दिल की धड़कन स्वाभाविक हो जाती है| कई बार तेज दौड़-भाग करने, देर तक व्यायाम करने या रक्तचाप की अधिकता आदि के कारण भी दिल तेजी से धड़कने लगता है| यह रोग बुढ़ापे में बहुत जल्दी लग जाता है| इसलिए इस आयु में व्यक्ति कोई सदैव प्रसन्नचित्त रहना चाहिए तथा जाने-अनजाने व्यर्थ की चिन्ताओं से दूर रहना चाहिए|

 

तेजी से दिल धड़कने के 21 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. गाय का दूध, किशमिश और बादाम

गाय के दूध में किशमिश तथा बादाम डालकर औटाएं| फिर शक्कर डालकर सहता-सहता घूंट-घूंट पी लें|


2. पिस्ता

पिस्ते की लौज खाने से हृदय की धड़कन ठीक हो जाती है|


3. प्याज और सेंधा नमक

दो चम्मच प्याज के रस में सेंधा नमक मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें|


4. अंगूर

भोजन के बाद चार चम्मच अंगूर का रस पिएं|


5. गुलाब, धनिया और दूध

गुलाब की पंखुड़ियों को सुखाकर पीस लें| फिर इसमें धनिया का चूर्ण समभाग में मिलाएं| एक चम्मच चूर्ण खाकर ऊपर से आधा लीटर दूध पिएं|


6. अनार

अनार के कोमल कलियों की चटनी बनाकर एक चम्मच की मात्रा में सुबह के समय निहार मुंह खाएं| लगभग एक सप्ताह सेवन करने से दिल की धड़कन सही रास्ते पर आ जाती है|


7. बेल और मक्खन

बेल का गूदा लेकर उसे भून लें| फिर उसमें थोड़ा-सा मक्खन या मलाई मिलाकर सहता-सहता लार सहित गले के नीचे उतारें|


8. सेब, पानी और मिश्री

200 ग्राम सेब को छिलके सहित छोटे-छोटे टुकड़े करके आधा लीटर पानी में डाल दें| फिर इस पानी को आंच पर रखें| जब पानी जलकर एक कप रह जाए तो मिश्री डालकर सेवन करें| यह दिल को मजबूत करता है|


9. आंवला और मिश्री

आंवले के चूर्ण में मिश्री मिलाकर एक चम्मच की मात्रा में भोजन के बाद खाएं| यह दिल की धड़कन सामान्य करता है| इससे रक्तचाप में भी लाभ होता है क्योंकि दिल की धड़कन तेज होने पर रक्तचाप भी बढ़/घट जाता है|


10. पपीता

पके पपीते का रस एक कप की मात्रा में भोजन के बाद सेवन करें|


11. गाजर

आधा कप गाजर का रस गरम करके प्रतिदिन दोपहर के समय पिएं|


12. सेब और चांदी

सेब का मुरब्बा चांदी का वर्क लगाकर खाएं|


13. कपूर

दिल धड़कने पर जरा-सा कपूर जीभ पर रखकर चूसें|


14. सेब, कालीमिर्च और सेंधा नमक

आधे कप सेब के रस में चार कालीमिर्च का चूर्ण तथा एक चुटकी सेंधा नमक मिलाकर सेवन करें|


15. इलायची और शहद

लाल इलायची के दानों को पीसकर चूर्ण बना लें| इसमें से चौथाई चम्मच चूर्ण शहद में मिलाकर खाएं|


16. टमाटर और पीपल

टमाटर के रस में पीपल के पेड़ के तने की छाल का 4 ग्राम चूर्ण मिलाकर सेवन करें| टमाटर के रस की मात्रा आधा कप होनी चाहिए|


17. पानी और नीबू

पानी में आधा नीबू निचोड़ें तथा उसमें दो चुटकी खाने वाला सोडा डालें| इस नीबू-पानी को पीने से दिल की धड़कन सामान्य हो जाती है|


18. अजवायन, सेंधा नमक और पानी

आधा चम्मच अजवायन तथा एक चुटकी सेंधा नमक – दोनों को पीसकर गुनगुने पानी के साथ खाएं| यह चूर्ण दिल की तेज धड़कन को सामान्य बना देता है| यह एक बेहतरीन नुस्खा माना जाता है|


19. अदरक, तुलसी और सेंधा नमक

अदरक का रस एक चम्मच, तुलसी के पत्तों का रस चौथाई चम्मच, लहसुन का रस दो बूंद तथा सेंधा नमक एक चुटकी – सबको अच्छी तरह मिलाकर उंगली से चाटें| चाटते समय इस बात का ध्यान रखें कि पेट में लार अधिक मात्रा में जाए|


20. अनार, कालीमिर्च और सेंधा नमक

कंधारी अनार का रस कालीमिर्च के चूर्ण तथा सेंधा नमक मिलाकर लेने से दिल की धड़कन स्वाभाविक हो जाती है|


21. राई

राई पीसकर छाती पर मलने से भी दिल को काफी आराम मिलता है|

 

तेजी से दिल धड़कने में क्या खाएं क्या नहीं

सादा तथा सुपाच्य भोजन भूख से कम खाएं| साथ में अधिक चिकने पदार्थ न लें क्योंकि चिकनी चीजें शरीर को बल देने साथ-साथ रक्त को गाढ़ा करती हैं जो दिल धड़कने वाले रोगी के लिए हानिकारक है| मौसमी फल तथा मौसमी हरी सब्जियां अधिक मात्रा में सेवन करें| परन्तु ठंडी तासीर के फल तथा सब्जियां बिलकुल न खाएं| रक्तचाप की जांच कराते रहें|

भोजन के साथ कच्ची अदरक, कच्ची प्याज तथा कच्चे चनो का इस्तेमाल अवश्य करें| अंकुरित मूंग दिल की धड़कन में बहुत लाभकारी है| मसालों में लाल मिर्च न खाकर कालीमिर्च, लौंग, जावित्री, तेजपात आदि साग-सब्जी में डालकर सेवन करें| बकरी तथा गाय का दूध अवश्य लें| बादाम, अखरोट, काजू, पिस्ता, खजूर, चिलगोजे आदि मेवे दिल की धड़कन को सामान्य बनाए रखते हैं| साथ ही चिंता, शोक, निराशा एवं विषाद आदि नकारात्मक भावों से स्वयं को बचाएं|

 

तेजी से दिल धड़कने का कारण

प्रत्येक स्त्री, पुरुष और बच्चे का दिल एक निश्चित गति में धड़कता रहता है| यह धड़कन मनुष्य के स्वस्थ तथा जीवित होने का लक्षण है| लेकिन किसी आशंका, भय या चिन्ता के कारण दिल की धड़कन बढ़ जाती है| यदि यह बार-बार होने लगे तो समझना चाहिए कि यह दिल की धड़कन का रोग है| यह रोग प्राय: उन लोगों को बहुत जल्दी होता है जो शरीर तथा हृदय दोनों से दुर्बल होते हैं| वैसे अधिक मानसिक उत्तेजना, दुःख, कष्ट, संकट, क्षुब्धता, स्नायुमंडल का कोई रोग, उत्तेजित पदार्थों का सेवन, भय, अधिक परिश्रम, दौड़ – धूप, हस्तमैथुन, स्त्री-प्रसंग आदि कारणों से यह रोग बड़ी जल्दी हो जाता है|

 

तेजी से दिल धड़कने की पहचान

इस रोग में कलेजा जोर-जोर से धड़कने लगता है| शरीर में कमजोरी आ जाती है| कुछ लोगों को बेचैनी भी महसूस होती है| शरीर में शुष्कता, कंठ में खुश्की, प्यास, तन्द्रा, अजीर्ण, भूख न लगना, दिल का जैसे बैठ जाना आदि लक्षण दिखाई देते हैं| हाथ-पैर ठंडे होने लगते हैं| शरीर की प्राणवायु शिथिल हो जाती है| सांस लेने में कठिनाई होती है| बस खाट पर लेटे रहने की इच्छा होती है| ऐसे में प्रिय व्यक्ति से बात करना भी अच्छा नहीं लगता|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products

 

1 COMMENT
  • Rajiv Kumar / March 9, 2019

    Sir mera. Heart rate 114 hai dabai to le rahay hai mera heart samanay nahi ho Raha hai kuch to upchar batay.

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏