🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेबीमारीयों के लक्षण व उपचारजल जाने के 15 घरेलु उपचार – 15 Homemade Remedies for Burns

जल जाने के 15 घरेलु उपचार – 15 Homemade Remedies for Burns

आग या किसी गरम वस्तु से जल जाने पर उस स्थान की त्वचा नष्ट हो जाती है, जिससे विषक्रमण (सेप्टिक) होने का भय रहता है| इसलिए रोगी को बाहर की दूषित वायु से जले हुए भाग की सुरक्षाकरना भी बहुत जरूरी है|

“जल जाने के 15 घरेलु उपचार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Homemade Remedies for Burns Listen Audio

जल जाने के 15 घरेलु नुस्खे इस प्रकार हैं:

1. मुलहठी और चंदन

मुलहठी के चूर्ण को चंदन के लेप में मिलाकर जले हुए भाग पर लगाएं| इससे जलन कम होती है|


2. बबूल और पानी

बबूल के गोंद को पानी में घोलकर जले हुए अंग पर लगाने से वहां घाव नहीं होता|


3. ग्वारपाठा

जले हुए भाग पर ग्वारपाठे का गूदा लगाने से रोगी को काफी आराम मिलता है|


4. नारियल, तेल और चूना

नारियल के तेल में चूने का पानी डालकर तेल को अच्छी तरह मिलाकर जले हुए भाग पर लगाएं|


5. दूध और जायफल

कच्चे दूध में जायफल घिसकर लगाना चाहिए|


6. बेल

पके हुए बेल का गूदा पानी में घोलकर लगाने से जला हुआ भाग जल्दी ठीक हो जाता है|


7. गूलर

गूलर के पत्तों को पीसकर जले हुए अंग पर लगाएं|


8. पानी और जीरा

पानी में जीरा पीसकर लगाने से जलन शान्त होती है|


9. जौ और तिली का तेल

जौ को भूनकर पीस लें| फिर उसे तिली के तेल में मिलाकर जले हुए अंग पर लगाएं|


10. मुलतानी मिट्टी और दही

मुलतानी मिट्टी पीसकर दही में मिलाकर लगाएं|


11. तुलसी

तुलसी की पत्तियों को पीसकर पतली तह जले हुए भाग पर लगाएं|


12. आम

आम की गुठली की गिरी पानी में घिसकर लगाएं|


13. मटर

हरी मटर सिल पर पीसकर लगाने से आग की जलन कम हो जाती है|


14. गाजर

कच्ची गाजर पीसकर जले हुए स्थान पर लगाएं|


15. बथुआ

कच्चे बथुए का रस जले हुए स्थान पर लगाने से काफी लाभ होता है|

 

जल जाने का कारण

जब किसी गरम तथा तपती हुई वस्तु के सम्पर्क में आने से हमारे शरीर का कोई भाग जल जाता है तो त्वचा और भीतर के ऊतक प्रभावित हो जाते हैं| यह जलन खौलते पानी, चाय, दूध, तेल, भाप, गैस, विद्युत उपकरण आदि किसी से भी हो सकती है|

 

जल जाने की पहचान

जलने या झुलसने पर मांस में तेज जलन होती है| त्वचा पर छाले और फफोले पड़ जाते हैं| उनमें पानी भर जाता है| कई बार ऊपर की चमड़ी जलकर काली पड़ जाती है जिससे घाव बन जाता है| यदि घाव का समय पर इलाज नहीं किया जाता तो उसमें पीव पड़ जाती है|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏