Homeआरती संग्रहश्री पार्वती जी की आरती – Shri Parwati Ji Ki Aarti

श्री पार्वती जी की आरती – Shri Parwati Ji Ki Aarti

श्री पार्वती जी की आरती - Shri Parwati Ji Ki Aarti

हिन्दू मान्यता के अनुसार पारवती जी ही देवी भगवती हैं| पार्वती जी को बहुत दयालु, कृपालु और करूणा मई मन जाता है| इनकी आराधना करने पर भक्तो के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं| तथा घर मई सुख शांति का वास होता है| देवी पारवती जी जैसा की सर्व विदित ही है, की शंकर भगवान् जी की अर्धांगिनी है| इनकी आरती उतार कर इन्हे प्रसन्न किया जा सकता है|

“श्री पार्वती जी की आरती” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Audio Shri Parwati Aarti

श्री पार्वती जी की आरती इस प्रकार है:

जय पार्वती माता जय पार्वती माता |
ब्रह्मा सनातन देवी शुभफल की दाता |

अरिकुलापदम बिनासनी जय सेवक्त्राता,
जगजीवन जगदंबा हरिहर गुणगाता |

सिंह को बाहन साजे कुण्डल हैं साथा,
देबबंधु जस गावत नृत्य करा ताथा |

सतयुगरूपशील अतिसुन्दर नामसतीकहलाता,
हेमाचल घर जन्मी सखियन संग राता |

शुम्भ निशुम्भ विदारे हेमाचल स्थाता,
सहस्त्र भुजा धरिके चक्र लियो हाथा |

सृष्टिरूप तुही है जननी शिव संगरंग राता,
नन्दी भृंगी बीन लही है हाथन मद माता |

देवन अरज करत तब चित को लाता,
गावन दे दे ताली मन में रंगराता |

श्री प्रताप आरती मैया की जो कोई गाता,
सदा सुखी नित रहता सुख सम्पति पाता |

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Rs. 749
Rs. 2,000
1 new from Rs. 749
Amazon.in
Rs. 1,074
Rs. 2,400
2 new from Rs. 1,074
Amazon.in
Free shipping
Rs. 195
Rs. 499
1 new from Rs. 195
Amazon.in
Free shipping
Rs. 2,550
Rs. 5,500
1 new from Rs. 2,550
Amazon.in
Free shipping
Rs. 298
Rs. 499
4 new from Rs. 298
Amazon.in
Free shipping
Last updated on September 11, 2018 3:16 pm

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

Write Comment Below
Also Read:   संकटमोचन हनुमानाष्ट्क जी की आरती - Sankatmochan Hanumanashtak Ji Ki Aarti
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT