🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeआरती संग्रहश्री ज्वाला जी की आरती- Shri Jwala ji ki Aarati

श्री ज्वाला जी की आरती- Shri Jwala ji ki Aarati

श्री ज्वाला जी की आरती- Shri Jwala ji ki Aarati

श्री ज्वाला जी की आरती

श्री ज्वाला जी की आरती इस प्रकार है:

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनि, तेरा पार न पाया|| टेक ||

पान सुपारी ध्वजा नारियल, ले तेरी भेंट चढ़ाया||

सुवा चोली तेरे अंग विराजै, केशर तिलक लगाया|

नंगे पांव तेरे अकबर जाकर, सोने का छत्र चढ़ाया||

ऊँचे ऊँचे पर्वत बना देवालय, नीचे शहर बसाया||

सतयुग त्रेता द्वापर मध्ये, कलयुग राज सवाया||

धूप दीप नैवेद्य आरती, मोहन भोग लगाया|

ध्यानू भगत मैया (तेरा) गुण गावैं, मन वांछित फल पाया||

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏