🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँसलाह देने से पहले अपनी सुरक्षा – शिक्षाप्रद कथा

सलाह देने से पहले अपनी सुरक्षा – शिक्षाप्रद कथा

सलाह देने से पहले अपनी सुरक्षा - शिक्षाप्रद कथा

एक बार एक उकाब ने एक खरगोश का पीछा किया| खरगोश आड़ा-तिरछा दौड़ता हुआ किसी प्रकार घनी झाड़ियों में पहुंच कर दुबक गया| उसकी जान बच गई| उसका दिल अभी तक धड़क रहा था| वह अभी संभल ही रहा था कि तभी उसने एक गौरेया को कहते सुना – “हे खरगोश! इतना भयभीत क्यों होते हो? उकाब से इतना घबराने की क्या जरूरत है! मुझे देखो, मैं कितनी छोटी हूं फिर भी उकाब से नहीं डरती| तुम इतने बड़े होकर भी उकाब से डरते हो| बड़े शर्म की बात है|”

उकाब अभी भी खरगोश को तलाश रहा था| चूंकि खरगोश झाड़ियों के बीच छुपा हुआ था| इसलिए वह उसे नहीं देख पा रहा था| मगर उसने गौरेया को डाल पर बैठे और चहचहाते देख लिया था| गौरेया अभी बढ़-चढ़कर बातें कर ही रही थी कि उकाब उस पर किसी आंधी की तरह झपटा और उसे अपने मजबूत चंगुल में दबाकर उड़ गया|

‘मुर्ख! मुझे सलाह दे रही थी, अपनी चिन्ता नहीं थी|’ खरगोश ने सोचा और किसी सुरक्षित स्थान की ओर दौड़ पड़ा|

शिक्षा: अपनी सुरक्षा न करके दूसरों को सलाह देने वाले यूं ही मरते हैं|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏