🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँलोमड़ी और अंगूर – शिक्षाप्रद कथा

लोमड़ी और अंगूर – शिक्षाप्रद कथा

लोमड़ी और अंगूर - शिक्षाप्रद कथा

एक लोमड़ी थी, जो अंगूर खाने की बहुत शौकीन थी| एक बार वह अंगूरों के बाग से गुजर रही थी| चारों ओर स्वादिष्ट अंगूरों के गुच्छे लटक रहे थे| मगर वे सभी लोमड़ी की पहुंच से बाहर थे| अंगूरों को देखकर लोमड़ी के मुंह में बार-बार पानी भर आता था| वह सोचने लगी – ‘वाह! कितने सुंदर और मीठे अंगूर हैं| काश मैं इन्हें खा सकती|’ यह सोचकर लोमड़ी उछल-उछल कर अंगूरों के गुच्छों तक पहुंचने की कोशिश करने लगी| परंतु वह हर बार नाकाम रह जाती| बस, अंगूर के गुच्छे उसकी उछाल से कुछ ही दूर रह जाते| अंत में बेचारी लोमड़ी उछल-उछल कर थक गई और अपने घर की ओर चल दी| जाते-जाते उसने सोचा – ‘ये अंगूर खट्टे हैं| इन्हें पाने के लिए अपना समय नष्ट करना ठीक नहीं!’

निष्कर्ष: जब कोई मूर्ख किसी वस्तु को प्राप्त नहीं कर पाता तो वह उसे तुच्छ दृष्टि से देखने लगता है|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏