सुख और शांति

ढाई हजार साल पहले की घटना है| बुद्ध एक गांव में ठहरे थे| एक आदमी उनके पास आया और बोला – “भंते, आप तीस साल से लोगों को शांति, सत्य और मोक्ष की बात समझा रहे हैं, लेकिन कितने लोग हैं जिन्हें मोक्ष प्राप्त हो गया?”

“सुख और शांति” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

बुद्ध उसकी बात सुनकर बोले – — “तुम आकर मिलना, तब तुम्हारी बात का जवाब दूंगा, लेकिन एक काम करना|”

“क्या?” उस आदमी ने पूछा|

बुद्ध ने कहा – “सारे गांव का चक्कर लगाकर लोगों से लिखवा लाना कि कौन शांति चाहते हैं, कौन सत्य और कौन मोक्ष|”

“आपने यह अच्छा कहा, भन्ते!”वह आदमी चकित होकर बोला – “कौन होगा ऐसा अभागा, जो इन चीजों को नहीं चाहेगा?”

बुद्ध ने कहा – “तुम एक बार पता तो लगाओ कि कौन आदमी किस चीज की कामना करता है|”

उस आदमी ने घंटों गांव में चक्कर लगाया, लेकिन एक भी आदमी ऐसा न मिला, जो शांति, सत्य और मोक्ष चाहता हो| किसी ने कहा – ‘मुझे रोगों से छुटकारा चाहिए|’ किसी ने कहा – ‘मुझे संतान चाहिए|’ किसी ने कहा – ‘मुझे नौकरी चाहिए|’ किसी ने कहा – ‘मुझे लंबी उम्र चाहिए|’

वह आदमी हैरान हो गया| फिर बुद्ध के पास आया| बोला – “यह तो बड़ा अजीब गांव है, महाराज! कोई कुछ चाहता है, कोई कुछ, किंतु शांति, सत्य और मोक्ष की आकांक्षा रखने वाला एक भी आदमी नहीं है|”

बुद्ध ने कहा – “इसमें अजीब क्या है! हममें से ज्यादातर लोग सुख चाहते हैं, शांति नहीं और सुख पाने के लिए वे शांति के उल्टे रास्ते पर चलते हैं| सुख का मार्ग शांति का मार्ग नहीं है|”

माँ की म
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏