🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँस्वार्थ की मित्रता

स्वार्थ की मित्रता

स्वार्थ की मित्रता

एक शेर जिस गुफ़ा में रहता था उसी गुफ़ा में एक चूहे ने बिल बना रखा था| वह चूहा हमेशा शेर को परेशान करता रहता- वह कभी शेर के बाल कुतर देता, कभी पीठ पर नाचने-कूदने लग जाता- कभी-कभी तो वह शेर को काट भी लेता था| शेर उससे बहुत ही दुखी था|

“स्वार्थ की मित्रता” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

शेर ने कई बार उस चूहे को पकड़ने की कोशिश की, पर उसे असफलता ही मिली| एक दिन शेर को जंगल में एक बिलाव मिला| शेर को वह बिलाव चूहे से मुक्ति दिलाने का साधन नज़र आया| उसने अपने स्वार्थ की खातिर उससे मित्रता कर ली और उसे अपनी गुफ़ा में ले आया| शेर जो भी शिकार करता उसमें से कुछ अंश बिलाव को दे देता|

बिलाव के आ जाने से चूहा भी अपने बिल से बाहर नही निकल पा रहा था| शेर अब निश्चिंत होकर सोता था|

उधर भूख से व्याकुल चूहा आखिर कब तक बिल में रहता| एक दोपहर जब शेर शिकार करने गया हुआ था तो वह बिलाव से नज़र बचाकर बिल से निकला और अपने लिए भोजन की तलाश करने लगा| तभी बिलाव की नज़र उस पर पड़ गई| उसने एक ही झपट्टे में चूहे को पकड़ लिया और उसे मार डाला|

शाम को जब शेर वापस गुफ़ा में लौटा तो बिलाव ने सोचा कि अपने मित्र को यह खुशखबरी देनी चाहिए कि उसके दुश्मन चूहे का अंत हो गया है|

लेकिन जब बिलाव ने शेर को यह बताया कि चूहा मर गया है तो शेर का बिलाव के प्रति व्यवहार ही बदल गया| शेर का स्वार्थ तो पूरा हो चुका था| अतः उसने बिलाव को शिकार में से हिस्सा देना भी बंद कर दिया|

अंततः बिलाव कुछ दिन बाद स्वयं ही शेर की गुफ़ा छोड़ कर चला गया|


कथा-सार

मित्रता करने से पहले सामने वाले को परख लेना चाहिए कि वह इसके योग्य है भी या नही| बिलाव ने शेर से मित्रता की लेकिन उसके स्वार्थ को न पहचान सका| स्वार्थ पूरा होते ही शेर ने उसे अंगूठा दिखा दिया, अतः स्वार्थपूर्ण मित्रता से सदैव बचना चाहिए|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏