🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏

सबसे बड़ी कमी

सबसे बड़ी कमी

एक राज था| उसने एक भव्य और मज़बूत महल का निर्माण कराया| सभी ने उस महल की खूब प्रशंसा की| एक बार एक संत-महात्मा राजा के उस महल में आए| राजा ने महात्मा की खूब सेवा-टहल की| उन्हें अपना पूरा महल दिखाया|

“सबसे बड़ी कमी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

उन्होंने महल के विषय में कोई टिप्पणी नही की| राज चाहता था कि महात्मा उसके महल के बारे में कुछ बोले| इसलिए राजा ने महल की चर्चा भी की| उसकी भव्यता तथा मज़बूती के बारे में बताया| महात्मा फिर भी चुप रहे|

अंततः राजा से रहा नही गया| उसने महात्मा से पूछा, ‘देव! लगता है आपको यह महल पसंद नही आया…शायद इसमें कोई कमी रह गई है|’

महात्मा ने कहा, ‘राजन! महल तो वाकई बेहद सुंदर है व भव्य और मज़बूत इतना कि इसे स्थायी कहा जा सकता है| लेकिन जो इसमें सबसे बड़ी कमी है वह यह कि इस महल में रहने वाले किसी भी जीव का जीवन स्थायी नही है और इसी कमी के कारण मैं चुप था|’


कथा-सार

मनुष्य इस धरती पर खाली हाथ आता है और जब जाता है तो भी उसके हाथ खाली ही होते है| बेशक, राजा का महल सुंदर था, लेकिन संत-महात्मा के किस काम का! वे तो यूँ भी मोह-माया के बंधनों से दूर ही रहते है|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏