🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँराजा हरिश्चंद्र द्वारा राज्य दान

राजा हरिश्चंद्र द्वारा राज्य दान

राजा हरिश्चंद्र द्वारा राज्य दान

कुछ पल बाद राजा ने ब्राम्हण की ओर देखा और कहा, “विप्रवर! आपकी जो भी अभिलाषा हो निस्संकोच मुझसे मांग लें| मैं अपने वचन से पीछे नहीं हटूंगा|”

“राजा हरिश्चंद्र द्वारा राज्य दान” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

ब्राम्हण ने गंभीरता से कहा,”राजन! यदि मैं अपने पुत्र के लिए आपसे आपका राज्य मांग लूं तो क्या आप वह भी मुझे देंगे?”

“भगवन! आप मांगकर तो देखिये|”राजा ने मुस्कुराते हुए कहा|

“फिर ठीक है, आप अपनी सम्पूर्ण राज्य सम्पदा सहित मेरे पुत्र को अपना राज्य दान में दे दीजिये|” ब्राह्मण ने राजा की ओर देखकर कहा|

राजा ने तत्काल वचन , “दिया!”

ब्राहमण ने भी तत्काल कहा, “लिया|” उन्होंने आगे कहा, “राजन! शास्त्रों में दान की बड़ी महत्ता है| इस दान के साथ मुझे ढाई भार सोना इसकी दक्षिणा के रूप में और दीजिये|”

राजा ने कहा, “वह भी दूंगा|”

तभी राजा के सैनिक उन्हें ढूढ़ते हुए वहां आ पहुचें|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏