🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँपसीने की कमाई का आनंद

पसीने की कमाई का आनंद

रैदास नाम के एक बड़े भगवद्भक्त थे| वे काशी में रहते थे| गंगा के घाट के पास ही उनकी झोंपड़ी थी, जिसमें वे अपनी पत्नी के साथ रहते थे और झोंपड़ी के बाहर बैठकर जूते गांठते रहते थे|

“पसीने की कमाई का आनंद” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

अपनी मेहनत-मजदूरी से उन्हें जो मिल जाता वे उसी में संतोष करते और मस्ती का जीवन बिताते| काम से समय मिलता तो सत्संग में चले जाते| कमाई बड़ी कम थी, पर उसकी उन्हें चिंता न थी| उनकी स्त्री बड़ी भली थी| पति को जो भी मिलता, उसी में खुशी-खुशी गुजर-बसर कर लेती थी|

एक दिन एक साधु रैदास के पास आया| उनकी दीनदशा देखकर उसने अपनी झोली में से एक पत्थर निकालकर बोला – “रैदास लो, यह पारस पत्थर है| लोहे को सोना बना देता है|”

इतना कहकर साधु ने लोहे का एक टुकड़ा लिया और सोना बनाकर दिखा दिया|

रैदास ने कहा – “महाराज, आप अपनी इस नियामत को अपने पास ही रहने दीजिए| मुझे नहीं चाहिए| मैं किसी की दी हुई मदद नहीं लेता| अपनी मेहनत से जितना काम लेता हूं, उसी में अपनी घर-गृहस्थी चला लेता हूं|”

साधु ने बड़ी ममता से कहा – “रैदास, आदमी को अच्छी तरह से रहना चाहिए| देखो तो तुम्हारी कुटिया की क्या हालत हो रही है!”

रैदास बोले – “स्वामीजी हमें अपनी इस जिंदगी से बड़ा सुख-संतोष है| पसीने की कमाई का अपना ही आनंद होता है| वही असली बात है|”

साधु ने बहुत आग्रह किया, पर रैदास नहीं माने| उन्होंने कहा – “स्वामीजी आपको यह पारस किसी को देना ही हो तो राजा को दीजिए| वह बड़ा गरीब है| उसे हर घड़ी रुपए की जरूरत रहती है| या फिर दीजिए गरीब मन वाले उस धनी को, जो रात-दिन पैसे के पीछे पड़ा रहता है|”

रैदास ने आगे और बात नहीं की| वह जूते गांठने में लग गए| बेचारा साधु अपना-सा मुंह लेकर चला गया|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏