🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँपढ़ाकू गधा (बादशाह अकबर और बीरबल)

पढ़ाकू गधा (बादशाह अकबर और बीरबल)

बीरबल को कहीं से एक गधा मिल गया| वह उसे बादशाह अकबर के पास लाया और बोला – “हुजूर, यह गधा काफी बुद्धिमान नजर आ रहा है| यदि इसे पढ़ना सिखाया जाए तो यह पढ़ाकू गधा बन सकता है|”

“पढ़ाकू गधा” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

“ठीक है, इस गधे को तुम अपने पास रख लो और एक महीने तक इसे पढ़ाकर दरबार में पेश करो|” बादशाह ने कहा|

बीरबल ने तो मजाक किया था किंतु अब बात उसी के ऊपर आ गई थी| अत: अब तो उसे गधे को पढ़ाकू बनाना ही था| एक माह बाद बीरबल उस गधे को लेकर दरबार में उपस्थित हुआ तो बादशाह ने पूछा – “क्यों बीरबल, अब तो गधा पढ़ाकू हो गया होगा?”

“जी हुजूर|” बीरबल ने जवाब दिया और एक मोटी-सी पुस्तक गधे के सामने रख दी| गधा अपनी जीभ से उस पुस्तक के पन्ने पलटने लगा और कुछ देर पन्ने पलटने के बाद जोर-जोर से रेंकने लगा|

यह देखकर बादशाह अकबर हैरान हो गए और उन्होंने बीरबल से पूछा – “कमाल है! तुमने गधे को पढ़ाना कैसे सिखा दिया?”

“हुजूर, गधा पढ़ना सीखा या नहीं… यह तो मैं नहीं जानता| किंतु पहले दिन से ही मैं इस किताब में घास रखता था जो हर दिन के साथ एक पृष्ठ आगे रखी जाती थी| गधा घास खाता… पन्ना पलटता और जिस पृष्ठ पर घास नहीं मिलती तो रेंकने लग जाता| आज यह इकतीसवें पृष्ठ पर रेंका था, क्योंकि उसे आज यहां घास मिलनी चाहिए थी| क्योंकि तीस दिन तक हर दिन अगले पृष्ठ पर इसे घास मिलती थी|”

यह सुनकर बादशाह मुस्करा दिए|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏