🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँनकलची का हश्र

नकलची का हश्र

नकलची का हश्र

एक पहाड़ के उन्नत शिखर पर एक बाज रहता था| उसी पहाड़ की तलहटी में बरगद के एक विशाल वृक्ष पर कौए का घोंसला था| वह कौआ बड़ा चालक और धूर्त था| उसका सदैव यही प्रयास रहता कि बिना परिश्रम किए कहीं से कुछ खाने को मिल जाए तो वह अपना पेट भर ले|

“नकलची का हश्र” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

उसी वृक्ष के निकट एक खोह में अनेक खरगोश रहते थे| खरगोश जब भी बाहर निकलते तो बाज ऊँची उड़ान भरकर झपट्टा मारता और एकाध खरगोश को उठाकर ले जाता और फिर मज़े से खाता| यह सब देखकर कौए के मुहँ में पानी भर आता था|

एक दिन कौए ने सोचा, ‘वैसे तो ये चालक खरगोश मेरे हाथ आएँगे नही, यदि इनका नरम माँस खाना है तो मुझे भी बाज की तरह झपट्टा मारकर पकड़ना होगा|’

अगले दिन कौए ने भी खरगोश को झपटने के लिए आसमान तक ऊँची उड़ान भरी, फिर बाज की तरह ज़ोर से झपट्टा मारा| अब कहाँ बज और कहाँ कौआ! खरगोश ने कौए को देख लिया और झट से वहाँ से भागकर एक चट्टान के पीछे छिप गया| कौआ अपनी ही झोंक में उस चट्टान से जा टकराया और अपने प्राणों से हाथ धो बैठा|

कथा-सार

नकल करने के लिए भी अक्ल चाहिए| मात्र किसी को कुछ करते देख उसका अनुसरण करना ठीक नही, अपनी क्षमताएँ व योग्यताएँ भी पहचान लेनी चाहिए| कौए ने यह सब याद नही रखा और बाज की नकल करने के चक्कर में अपने प्राणों से हाथ धो बैठा|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏