🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँमनपसंद वस्तु (बादशाह अकबर और बीरबल)

मनपसंद वस्तु (बादशाह अकबर और बीरबल)

मनपसंद वस्तु (बादशाह अकबर और बीरबल)

एक सुनार के मकान में आग लग गई| अब बहुत भयंकर थी, सबकुछ धू-धू कर जल रहा था| सुनार असहाय खड़ा देख रहा था| तभी उसने जोर से कहा – “भाईयों, इस मकान के अन्दर मेरी जिंदगीभर की कमाई के लाखों के जेवर एक बक्से में पड़े हैं, कोई तो उसे निकाल लाओ|”

“मनपसंद वस्तु” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

यह बात सुनकर एक महाजन आगे आया और कहा – “मैं तुम्हारे जेवरों का बक्सा निकाल लाऊंगा, किन्तु शर्त यह है की मैं अपनी मनपसंद वस्तु तुम्हें दे दूंगा और बाकी सबकुछ अपने पास रख लूंगा|”

सुनार ने सोचा, सबकुछ बरबाद होने से तो कुछ मिलना बेहतर है…सो उसने हामी भर दी|

महाजन आग में कूद गया और अन्दर से जेवर के बक्से को निकाल लाया और सारे जेवर स्वयं रखकर खाली बक्सा सुनार को सौंप दिया|

अब सुनार को यह बात कहां मंजूर होती कि कोई उसकी जिन्दगीभर की कमाई यूं ही ले जाए| सो बात बढ़ गई और फैसले के लिए उन्हें दरबार में आना पड़ा|

दोनों पक्षों को सुनने के बाद अकबर ने बीरबल से न्याय करने को कहा|

बीरबल ने महाजन से पूछा – “तुमने क्या शर्त रखी थी… एक बार फिर बताओ?”

“हुजूर, शर्त यह थी कि मैं अपनी मनपसंद वस्तु सुनार को देकर बाकी सबकुछ अपने पास रख लूंगा|” महाजन ने कहा|

“और यकीनन तुम्हारी मनपसंद वस्तु यह सारे जेवर ही होंगे?” बीरबल ने पूछा|

“जी हां… हुजूर…|” महाजन ने तुरन्त जवाब दिया|

“तो हो गया फैसला… तुम अपनी मनपसंद वस्तु सारे जेवर सुनार को सौंप दो और खाली बक्सा अपने पास रख लो|”

महाजन समझ गया कि वह अपनी ही बातों के जाल में फंस गया है| फैसला हो चुका था, अत: महाजन को सारे जेवर सुनार को लौटाने पड़े|

बीरबल के न्याय से बेहद खुश हुए बादशाह अकबर|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏