🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँलालची कुत्ता

लालची कुत्ता

लालची कुत्ता

प्रायः देखा गया है कि जानवरों में कुत्ता सबसे ज्यादा लालची होता है| वह रोटी के टुकड़े के लिए एक द्वार से दूसरे द्वार पर भटकता रहता था| उसको भर पेट भोजन कभी नहीं मिलता था| अपितु कभी-कभी डंडे भी खाने पड़ते थे|

“लालची कुत्ता” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

एक बार उसको एक माँस विक्रेता की दुकान पर एक माँस का टुकड़ा मिल गया| मौका मिलते ही वह माँस का टुकड़ा लेकर भाग गया| वह किसी ऐसे स्थान की तलाश में था जहाँ वह आराम से बैठकर उसे खा सके|

वह नगर के अंतिम किनारे पर पहुँच गया| वहीं पर एक नाला बह रहा था| नाले का किनारा उसके लिए एकांत स्थान था| उसने पानी की और देखा| पानी में कुत्ते की छाया साफ दिखाई दे रही थी| कुत्ते ने सोचा कि वह कोई दूसरा कुत्ता है जिसके मुँह में भी माँस का टुकड़ा है| उसको लालच सवार हो गया| उसने सोचा कि क्यों न उस कुत्ते को भगाकर दूसरा माँस का टुकड़ा भी मैं ही ले लूँ, फिर मेरे पास दो-दो माँस के टुकड़े हो जायेंगे| वह परछाई को देखकर भौंकने लगा| भौंकने पर उसके मुँह से माँस का टुकड़ा गिरकर पानी में बह गया| लालची कुत्ता ताकता रहा और अपनी गलती पर पछताने लगा|

शिक्षा- लालच बुरी बला है|

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏