🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँकौन मुर्ख, कौन समझदार (बादशाह अकबर और बीरबल)

कौन मुर्ख, कौन समझदार (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह अकबर ने भरे दरबार में बीरबल से पूछा – “इस दुनिया में किस बिरादरी के लोग मुर्ख होते हैं? और किस बिरादरी के लोग समझदार?”

“कौन मुर्ख, कौन समझदार” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

“हुजूर! सीधी-सी बात है … मुर्ख होते हेई मुल्ला और समझदार होते हैं बनिए या व्यापारी|” बीरबल ने जवाब दिया|

“यह तुम कैसे कह सकते हो? मुल्ला तो पढ़-लिखकर धर्म-कर्म का काम देखने वाले होते हैं|” बादशाह ने अचरज से कहा|

“हुजूर, कुछ खर्च होगा किंतु मैं साबित कर दूंगा|”

“हमें मंजूर है|”

बादशाह अकबर की अनुमति मिलने के बाद बीरबल ने शाही मुल्ला को दरबार में हाजिर होने के लिए फरमान भिजवाया| कुछ देर बाद मुल्ला दरबार में हाजिर था| उसने बादशाह को सिर झुकाकर सलाम किया और बुलावे का कारण पूछा| इस पर बीरबल बोला – “मुल्लाजी, बात यह है कि बादशाह अकबर को आपकी दाढ़ी पसंद आ गई है और वे चाहते हैं कि आप यह दाढ़ी उन्हें दे दें| इसके बदले आप जो रकम चाहेंगे वह मिल जाएगी|”

“दीवान जी, यह आप क्या कह रहे हैं? मैं दाढ़ी कैसे दे सकता हूं|” मुल्ला ने डरते हुए कहा|

“सोच लो मुल्लाजी, आप बादशाह से बैर करने जा रहे हैं| इसके बदले आप जितनी चाहें उतनी रकम ले सकते हैं|”

मुल्ला डर गया, बोला – “जब बादशाह को दाढ़ी पसंद ही आ गई है तो मैं क्या कर सकता हूं, आप इसके बदले दस रुपये दिलवा दीजिएगा|”

शाही खजाने से मुल्लाजी को दस रुपये दे दिए गए और नाई बुलवाकर उनकी दाढ़ी कटवा दी गई|

मुल्लाजी की जान में जान आई और वह तुरन्त दरबार छोड़कर भाग गया| मुल्लाजी के जाने के बाद बीरबल ने किसी दाढ़ी वाले बड़े व्यापारी को दरबार में पेश करने को कहा|

कुछ ही देर में व्यापारी दरबार में हाजिर था| बीरबल ने उससे भी यही कहा कि बादशाह को उसकी दाढ़ी पसंद आ गई है और वे उसकी मुंहमांगी कीमत देंगे|

“हुजूर! बादशाह सलामत तो जो चाहे मांग सकते हैं, हम रोकने वाले कौन हैं? किंतु…|”

“किन्तु क्या?”

“हुजूर, आप तो जानते हैं कि यह दाढ़ी ही हम व्यापारियों की धाक है, इसी दाढ़ी को न कटवाने के कारण अपने मां-बाप की मृत्यु पर बीस हजार रुपया ब्राह्मणों पर खर्च कर दिया था| अब आप ही बताएं…|” व्यापारी बोला|

“तुम्हें बीस हजार रुपये चाहिए… मिल जाएंगे|” बीरबल ने कहा|

व्यापारी को शाही खजाने से बीस हजार रुपये दे दिए गए| नाई आया और व्यापारी की दाढ़ी काटने बैठा| जैसे ही नाई ने दाढ़ी पर उस्तरा लगाया कि व्यापारी ने नाई को थप्पड़ मार दिया और गुस्से से कहा – “कैसा नाई है तू! तुझे अक्ल नहीं है, तुझे पता है यह बादशाह अकबर की दाढ़ी है और तू इसे इस तरह से छीलेगा, भाग यहां से…|”

यह देखकर बादशाह भी बिगड़ गए और उन्होंने व्यापारी को दरबार से बहार कर दिया| तब बीरबल ने कहा – “देखा, जहांपनाह मुल्लाजी तो दस रुपये में दाढ़ी कटवा कर चले गए और व्यापारी बीस हजार रुपये भी ले गया और दाढ़ी भी बचा गया|”

बीरबल की बात सुनकर बादशाह मुस्करा दिए|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏