🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँखाना कैसा चाहिए

खाना कैसा चाहिए

दो मित्र थे, एक का नाम था अशोक और दूसरे का नाम पुनीत| एक दिन अशोक ने पुनीत को अपने घर खाना खाने बुलाया| उसने तरह-तरह की बढिया चीजें बनवाईं| पूड़ी-कचौड़ी, खीर आदि-आदि| जब दोनों खाना खा चुके तो अशोक ने पूछा – “पुनीत, खाना कैसा लगा?”

“खाना कैसा चाहिए” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

पुनीत चुप रहा तो अशोक ने कहा – “क्यों खाना पसंद नहीं आया?”

पुनीत बोला – “कल तुम मेरे यहां खाना खाने आना| तब मैं तुम्हारी बात का जवाब दूंगा|

अगले दिन अशोक पुनीत के यहां खाना खाने गया| पुनीत ने बड़ा सादा खाना बनवाया था| दोनों मित्रों ने खाना खाया| खाने के बाद अशोक ने कहा – “तुम आज मेरे सवाल का जवाब देने वाले थे?”

पुनीत बोला – “जवाब तो तुम्हें मिल गया| तुम्हारे यहां खाना खाने के बाद मुझे एक घण्टे सोना पड़ा था| मेरे यहां खाकर अब तुम सीधे काम पर जाओ और मौज से काम करो|”

अब अशोक ने समझा कि काम करने वाले आदमी के लिए किस तरह का खाना चाहिए|

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏