🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँकहने की कला (बादशाह अकबर और बीरबल)

कहने की कला (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह अकबर ने एक स्वप्न देखा| उस स्वप्न के बारे में उन्हें जिज्ञासा हुई| उन्होंने ज्योतिषी को बुलवाया और अपने स्वप्न के बारे में बताकर उसका फल जानना चाहा|

“कहने की कला” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

ज्योतिषी ने कुछ देर सोचा, फिर बोला – “हुजूर, इस स्वप्न का तो यही अर्थ है कि आपके परिवार के सभी लोग एक-एक करके आपकी नजरों के सामने मारे जाएंगे|”

बादशाह क्रोधित हो गए और उन्होंने ज्योतिषी को मृत्युदण्ड का हुक्म सुना दिया|

बीरबल भी वहां उपस्थित था, बोला – “जहांपनाह, मैं कुछ कहना चाहता हूं|”

“बोलो बीरबल! क्या बात है?”

“हुजूर, इस स्वप्न का अर्थ यह है कि आप अपने परिवार में सबसे अधिक जिएंगे… आपकी उम्र बहुत लम्बी है|”

बादशाह खुश हो गए और बोले – “बीरबल, तुमने मुझे खुश कर दिया, बोलो, क्या मांगते हो… वही मिलेगा|”

“हुजूर, उस ज्योतिषी को माफ कर दें, वास्तव में वह कहने की कला नहीं जानता| जो कुछ उसने कहा और जो मैंने कहा – उन दोनों का गूढ़ अर्थ तो एक ही है किंतु कहने-कहने का फर्क है, एक बात से आप नाराज हो गए और दूसरी बात से खुश|” बीरबल ने कहा|

बादशाह ने ज्योतिषी को माफ कर दिया|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏