🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँगांधीजी का दर्द

गांधीजी का दर्द

गांधीजी का जन्म-दिन सादगी के साथ मनाया जाता था| एक बार सेवाग्राम में जब उनका जन्म-दिन मनाया गया तो आश्रम के भाई-बहनों के अलावा इधर-उधर के भी काफी लोग जमा हो गए|

“गांधीजी का दर्द” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

गांधीजी समय पर प्रार्थना-सभा में आए तो देखते क्या हैं, उनके सामने घी का दीया जल रहा है| बात नई थी, गांधीजी उस ओर कुछ क्षण तक देखते रहे| उसके बाद प्रार्थना शुरू हो गई|

प्रार्थना समाप्त होने पर गांधीजी का प्रवचन आरंभ हुआ| सब लोग शांत होकर उनकी ओर देखने लगे|

गांधीजी ने बड़े गंभीर स्वर में पूछा – “यह दीया कौन लाया है?”

पास बैठी बा ने कहा – “मैं लाई हूं|”

“गांव से|” बा बोलीं – “आज आपकी वर्षगांठ है न!”

गांधीजी ने गहरी व्यथा के साथ कहा – “आज अगर कोई सबसे बुरा काम हुआ है तो वह यह कि बा ने घी का दीया जलाया| आज मेरी वर्षगांठ है इसलिए ऐसा किया गया है| आसपास के गांवों में लोग कैसे रहते और जीते हैं यह मैं रोज देखता हूं| उन बेचारों को ज्वार – बाजरे की सूखी रोटी पर चुपड़ने के लिए तेल तक नहीं मिलता और आज यहां मेरे आश्रम में घी का दीया जल रहा है| बेचारे गरीब किसानों को जो चीज नसीब न हो, उसे हम इस तरह कैसे बरबाद कर सकते हैं?”

कहते-कहते उनका दर्द इतना उभरा कि उनकी आंखें गीली हो आईं| उनकी वे गीली आंखें आज भी सूखी नहीं है और उनका वह दर्द तो आज और भी बढ़ गया है| इसी से साबित होता है कि गांधीजी ने अपने लिए कभी कुछ नहीं सोचा, वो सदा दूसरों के लिए जिए हैं|

जंगल का
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏