🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏

दयाका फल

दयाका फल

बादशाह सुबुक्तगीन पहले बहुत गरीब था| वह एक साधारण सैनिक था| एक दिन वह बंदूक लेकर, घोड़ो पर बैठकर जंगल में शिकार खेलने गया था| उस दिन उसे बहुत दौड़ना और हैरान होना पड़ा| बहुत दूर जाने पर उसे एक हिरनी अपने छोटे बच्चे के साथ दिखायी पड़ी| सुबुक्तगीन ने उसके पीछे घोड़ा दौड़ा दिया|

“दयाका फल” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

हिरनी डर के मारे भागकर एक झील में छिप गयी; लेकिन उसका छोटा बच्चा पीछे छूट गया| सुबुक्तगीन ने हिरनी के बच्चे को पकड़ लिया और उसके पैर बाँधकर घोड़े पर उसे लाद लिया| बहुत ढूँढ़ने पर भी जब उसे हिरनी नहीं मिली तो उस बच्चे को लेकर ही वह लौट पड़ा|

हिरनी ने देखा कि उसके बच्चे को शिकारी बाँधकर लिये जा रहा हैं| वह अपने बच्चे के मोह से झाड़ी से निकल आयी और सुबुक्तगीन के घोड़े के पीछे-पीछे दौड़ने लगी| दूर जाकर सुबुक्तगीन ने पीछे देखा| अपने पीछे हिरनी को दौड़ते देख उसे आश्चर्य हुआ और दया आ गयी| उसने उसके बच्चे के पैर खोलकर घोड़े से उतार दिया| हिरनी प्रसन्न होकर अपने बच्चे को लेकर भाग गयी|

उस दिन घर लौटकर जब रात में सुबुक्तगीन सोया तो उसने एक स्वप्न देखा| उससे कोई देवदूत कह रहा था- ‘सुबुक्तगीन! तूने आज एक गरीब हिरनी पर दया की है, उससे प्रसन्न होकर परमात्मा ने तेरा नाम बादशाहों की सूची में लिख लिया है| तू एक दिन बादशाह बनेगा|’

सुबुक्तगीन का स्वप्न सच्चा था| वह आगे चलकर बादशाह हुआ| एक हिरनी पर दया करने का उसे यह फल मिला| जो जीवों पर दया करता है, उसपर भगवान् अवश्य प्रसन्न होते हैं|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏