🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँबुद्धिमान (बादशाह अकबर और बीरबल)

बुद्धिमान (बादशाह अकबर और बीरबल)

बुद्धिमान (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह अकबर ने बीरबल से कहा – “बीरबल, किसी ऐसे व्यक्ति को मेरे सामने पेश करो जो सबसे अधिक बुद्धिमान हो?”

“बुद्धिमान (बादशाह अकबर और बीरबल)” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

“हुजूर के हुक्म का पालन होगा|” बीरबल ने जवाब दिया|

अगले दिन प्रात: उसने गाय चराते हुए एक ग्वाले को पकड़ा और उसे समझा-बुझाकर दरबार में अकबर के सामने पेश कर दिया और कहा – “हुजूर, आपके हुक्म की तामील पर मैं इस व्यक्ति को लाया हूं, यह बहुत ही बुद्धिमान है, आप चाहें तो परख सकते हैं|”

बादशाह अकबर ने उसे परखने के लिए कुछ सवाल पूछे किन्तु वह हाथ जोड़े चुपचाप खड़ा रहा| यह देखकर अकबर क्रोध से बीरबल से बोले – “यह तुम किसे पकड़ लाए हो, यह तो किसी बात का जवाब ही नहीं दे रहा|”

“हुजूर, यही तो इसकी बुद्धिमत्ता है, इसने अपने बुजुर्गों से सुना है कि राजा तथा अपने से अधिक बुद्धिमान व्यक्ति के सामने चुप रहना चाहिए, इसलिए यह आपके सामने चुप है|” बीरबल ने जवाब दिया|

बादशाह अकबर सारी बात समझ गए| उन्होंने ग्वाले को उचित इनाम देकर महल से विदा किया|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏