🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँभेड़ की खाल में भेड़िया

भेड़ की खाल में भेड़िया

भेड़ की खाल में भेड़िया

एक बार एक भेड़िए को कही से भेड़ की खाल मिल गई तो वह फूला नही समाया| वह सोचने लगा, ‘सूर्यास्त के बाद जब गड़रिया भेड़ों को बाड़े में बंद कर देगा, तब मैं भी भेड़ों के बीच बाड़े में घुस जाऊँगा और रात को मोटी-सी भेड़ उठाकर भाग जाऊँगा| फिर उसे चटकारे लेकर खाऊँगा और इस खाल के कारण वह मुझे पहचान भी नही पाएगा|’

“भेड़ की खाल में भेड़िया” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

यह सोचकर वह मैदान में चर रही भेड़ों के समूह में शामिल हो गया|

शाम होने पर गड़रिया भेड़ों को बाड़े में बंद कर अपने घर चला गया| अब भेड़िया रात होने की प्रतीक्षा करने लगा| उसने एक मोटी-तगड़ी भेड़ का चयन भी कर लिया था|

जब रात का अँधेरा छाने लगा तो भेड़ की खाल में छिपा भेड़िया चुपचाप आकर भेड़ों के झुंड में समा गया|

यहाँ तक तो सब ठीक था लेकिन इसके बाद जो हुआ वह भेड़िए का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा|

हुआ यह कि गड़रिए के घर कुछ अतिथि आ गए| उसने नौकर को आदेश दिया कि वह एक मोटी-तगड़ी भेड़ हलाल कर लाए| नौकर बाड़े में गया और भेड़ की खाल में छिपे भेड़िए को ही उठाकर ले गया और उसे हलाल कर डाला, क्योंकि डीलडौल में वही सबसे अलग था|


कथा-सार

परीस्थितियाँ कब कैसा रूप ले ले, कोई नही जानता| इसलिए किसी का अहित कल्पना में भी नही करना चाहिए| भेड़ की खाल ओढ़कर भेड़िया गया तो था भेड़ का शिकार करने, परंतु उसे खुद हलाल होना पड़ा| दुर्भाग्य कब किस रूप में आ जाए कोई नही जानता|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏