🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँबादशाह का गुस्सा (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह का गुस्सा (बादशाह अकबर और बीरबल)

बादशाह अकबर अपनी बेगम से किसी बात पर नाराज हो गए| नाराजगी इतनी बढ़ गई कि उन्होंने बेगम को मायके जाने को कह दिया| बेगम ने सोचा कि शायद बादशाह ने गुस्से में ऐसा कहा है, इसलिए वह मायके नहीं गई|

“बादशाह का गुस्सा” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

जब बादशाह ने देखा कि बेगम अभी तक मायके नहीं गईं है तो उन्होंने गुस्से में कहा – “तुम अभी तक यहीं हो, गई नहीं, सुबह होते ही अपने मायके चली जाना वरना अच्छा न होगा| तुम चाहो तो अपनी मनपसंद चीज साथ ले जा सकती हो|”

बेगम सिसक कर जनानखाने में चली गई| वहां जाकर उसने बीरबल को बुलाया| बीरबल बेगम के सामने पेश हो गया| बेगम ने बादशाह की नाराजगी के बारे में बताया और उनके हुक्म को भी बता दिया|

“बेगम साहिबा, अगर बादशाह ने हुक्म दिया है तो जाना ही पड़ेगा, और अपनी मनपसंद चीज ले जा जाने की बाबत जैसा मैं कहता हूं वैसा ही करें, बादशाह की नाराजगी भी दूर हो जाएगी|”

बेगम ने बीरबल के कहे अनुसार बादशाह को रात में नींद की दवा दे दी और उन्हें नींद में ही पालकी में डालकर अपने साथ मायके ले आई और एक सुसज्जित शयनकक्ष में सुला दिया| जब बादशाह की नींद खुली तो स्वयं को अनजाने स्थान पर पाकर हैरान हो गए, पुकारा – “कोई है?”

उनकी बेगम साहिबा उपस्थित हो गईं| बेगम को वहां देखकर समझ गए कि वे अपनी ससुराल में हैं| उन्होंने गुस्से से पूछा – “तुम हमें भी यहां ले आईं, इतनी बड़ी गुस्ताखी कर डाली…|”

“मेरे सरताज, आपने ही तो कहा था कि अपनी मनपसंद चीज ले जाना…इसलिए आपको ले आई|”

यह सुनकर बादशाह का गुस्सा जाता रहा, मुस्कराकर बोले – “जरूर तुम्हें यह तरकीब बीरबल ने ही बताई होगी|”

बेगम ने हामी भरते हुए सिर हिला दिया|

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏