🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँअनोखा हल (बादशाह अकबर और बीरबल)

अनोखा हल (बादशाह अकबर और बीरबल)

सर्दी का मौसम था| बादशाह अकबर महल के ऊपरी हिस्से में बैठे हुए सूरज की गरमी ले रहे थे| बीरबल और दूसरे दरबारी विचार-विमर्श कर रहे थे|

“अनोखा हल” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

यह महल यमुना किनारे था| सर्दी के दिनों में सुबह के वक्त पानी से भाप उठते देखकर बादशाह आश्चर्यचकित रह गए| क्योंकि भाप तो गर्मी पाकर उठती है, लेकिन सर्दी के मौसम में क्यों उठ रही है? उन्होंने अपनी समस्या कुछ इस तरह से रखी:

केहि कारण प्राप्त बफात है पानी?

सभी ने अपने तर्कों से बादशाह अकबर को दलीलें दीं, मगर वे संतुष्ट न हुए| उन्होंने बीरबल की तरफ आशाभरी दृष्टि से देखा|

बीरबल ने तत्काल ही इस समस्या का हल इस प्रकार किया|

एक दिवस सब देख जुरे ओर, समुद्र की आए कीनो मथनी|
पर्वत की रयी डाल दयी, जब शेष की धामिनियों गह लीनी|
खींचती हैं तीनों तिरयी, तब शेष का श्वास समुद्र समानी|
इसका विचार यह है राजन, याही से प्राप्त बफात है पानी|

छंद के रूप में जवाब सुनकर बादशाह अकबर ने बीरबल को ढेर सारा इनाम दिया|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏