🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँअब काँटे चुभेंगे नहीं

अब काँटे चुभेंगे नहीं

अब काँटे चुभेंगे नहीं

महाराष्ट्र के चन्द्रपुर जिले में आनन्दवन नामक एक बस्ती है| यहाँ पर जनसेवी बाबा आम्टे ने कुष्ठरोग से पीड़ित हजारों लोगों का रोग से मुक्त कर स्वावलम्बी बनाया|

“अब काँटे चुभेंगे नहीं” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

एक दिन उस आनन्दवन में एक अंधे बालक ने बाबा से प्रार्थना की- “बाबा, गुलाब कैसा होता है? सब लोग गुलाब की प्रशंसा करते हैं| मुझे बताओ गुलाब कैसा होता है? कहते हैं कि उसका फूल खूब रंगीन और खुशबू से भरा होता है|” बाबा आम्टे उसे फूलों के उधान में ले गए| वहाँ तरह-तरह के फूलों के पौधे खिले हुए थे| बाबा बच्चे को गुलाब के पौधे के पास ले गए| पौधा फूलों से लदा था, गंद से सुवासित था| फूलों की महक से बालक ने अपना हाथ फूलों की ओर बढ़ाया, परंतु गुलाब का काँटा उसे चुभ गया| बालक ने तुरंत अपना हाथ हटा लिया|

उस दिन से कुष्ठसेवी बाबा काँटो से शून्य गुलाब की खोज में संलग्न हो गए| कई वर्षों की मेहनत के बाद उन्हें कामयाबी मिली| अब कुष्टाश्रम आनन्दवन में गुलाब के ऐसे पौधे तैयार हो गए हैं, जिनमें काँटे नहीं हैं| अब आनन्दवन के अपंग बच्चे इन काँटों से शून्य गुलाब को छूकर मस्त होकर झूम उठते हैं|

हाँ, यह सेवाश्रती बाबा आम्टे को ही श्रेय है, जिन्होंने कुष्ठरोगियों और अपंगों के जीवन के काँटे ही दूर नहीं किए हैं, प्रत्युत उन्होंने दृष्टिहीनों को चुभने वाले काँटों से हीन गुलाब तैयार कर उसमें भी आनन्द की नई सृष्टि की है| दूसरों की राह से काटें हटाना सबसे महान कार्य है|

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏