🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeभगवान शिव जी की कथाएँकिरात-अर्जुन युद्ध (भगवान शिव जी की कथाएँ) – शिक्षाप्रद कथा

किरात-अर्जुन युद्ध (भगवान शिव जी की कथाएँ) – शिक्षाप्रद कथा

किरात-अर्जुन युद्ध (भगवान शिव जी की कथाएँ) - शिक्षाप्रद कथा

कर्ण को युद्ध में मार गिराने के लिए अर्जुन पाश्पतास्त्र प्राप्त करना चाहता था| अपने इस कार्य को पूरा करने के लिए वह इंद्रनील पर्वत पर शिव की मिट्टी की प्रतिमा बनाकर तपस्या करने बैठ गया| उसकी कठिन तपस्या से समूचा वन प्रदेश जल उठा| वहां रहने वाले ऋषि-मुनि घबरा गए|

वे भगवान शिव के पास पहुंचे| भगवान शिव पार्वती सहित अपने आसन पर विराजमान थे| भगवान शिव की स्तुति करने के पश्चात ऋषि-मुनियों ने कहा – “भगवन! एक तपस्वी जंगल में घनघोर तपस्या कर रहा है| उसकी तपस्या के हवन-कुंड की आग से समूचा जंगल तपने लगा है| हम लोगों का वहां रहना मुश्किल हो गया है| कृपया हमें उससे मुक्ति दिलवाइए|”

भगवान शिव ने उन्हें आश्वस्त किया| फिर ऋषि-मुनि वापस अपनी कुटिया की ओर लौट गए| जब ऋषि-मुनि चले गए तो शिव पार्वती से बोले – “वह निश्चित रूप से अर्जुन ही है देवी! उन ऋषियों का अनुमान बिल्कुल सही है|”

पार्वती बोलीं – “लेकिन वह कठिन तप किसलिए कर रहा है स्वामी! इसका पता लगाना चाहिए| आपने ऋषि-मुनियों को आश्वासन भी दिया है|

शिव बोले – “वह पाशुपत अस्त्र प्राप्त करने के लिए तप कर रहा है देवी! बिना पाशुपत प्राप्त किए वह अपना तप भंग नहीं करेगा|”

“तो फिर!” पार्वती बोलीं|

शिव बोले – “हम वेश बदलकर उसके पास पहुंचते हैं| उसकी परीक्षा करेंगे कि वह पाशुपत अस्त्र धारण करने का अधिकारी है भी या नहीं| अगर वह अपनी परीक्षा में सफल हुआ तो मैं उसे पाशुपत दे दूंगा|”

शिव और पार्वती दोनों ने वेश बदल लिया| शिव किरात बन गए और पार्वती किरात की पत्नी| शिव के गणों ने स्त्रियों का वेश धारण कर लिया| कुछ गण पुरुष वेश में ही किरात का वेष धारण किए उनके साथ चल पड़े| वे सब उस उपवन में पहुंचे जहां अर्जुन शिव की प्रतिमा के सम्मुख बैठा कठिन तप कर रहा था| निकट ही धरती पर उसके अस्त्र-शस्त्र रखे हुए थे| उस वन में एक विकट राक्षस रहता था| सारे ऋषि-मुनि उससे भयभीत रहते थे| राक्षस ने अर्जुन को अकेल बैठे तप में लीन देखा तो उसने एक सूअर का वेश बनाया और वह सीधा अर्जुन की ओर झपटने को तैयार हुआ|

तभी शिव और पार्वती की निगाह अर्जुन पर झपटने को तैयार उस सूअर रूपी राक्षस पर पड़ी| यह देख पार्वती बोलीं – “देखो, देखो भगवन! वह राक्षस अर्जुन पर झपटने की तैयारी कर रहा है| उसे समाप्त कर दो अन्यथा वह आपके भक्त को मार डालेगा|”

शिव बोले – “वह ऐसा नहीं कर सकेगा देवी! इससे पहले कि वह अर्जुन के पास पहुंचे मैं उसे समाप्त कर दूंगा|”

यह कहकर शिव ने अपने धनुष पर बाण चढ़ा लिया| वे बाण छोड़ने को उद्यत हुए| लेकिन अर्जुन भी सजग था| सूअर के भागते कदमों की उसे भी आहट मिल चुकी थी| अर्जुन फुर्ती से उठ खड़ा हुआ और अपना धनुष लेकर उस पर बाण चढ़ा लिया| किरात रूपी शिव और अर्जुन, दोनों के बाण एक साथ छूटे और सूअर रूपी राक्षस के शरीर में जा घुसे| सूअर के मुंह से दिल दहला देने वाली चीत्कारें फूट निकलीं| समूचा जंगल कांप उठा| मरते ही उसका मायावी रूप समाप्त हो गया और वह एक पहाड़ की तरह जमीन पर धड़ाम से आ गिरा| किरात बने भगवान शिव के गणों ने जय-जयकार करनी आरंभ कर दी|

किरात और अर्जुन दोनों एक साथ मृत सूअर के पास पहुंचे| अर्जुन मुस्कुराते हुए बोला – “निशाना तो तुमने ठीक ही लगाया किंतु, तुम चूक गए| तुम्हें इतने विलंब से तीर नहीं चलाना चाहिए था| देखो, मेरा निशाना कितना सच्चा है| एक ही बाण में सूअर को यमलोक पहुंचा दिया|”

किरात बोला – “लेकिन यह तो मेरे बाण से मरा है| मेरे सब साथी जानते हैं कि बाण मैंने पहले चलाया था| सूअर मेरे बाण से मरा है, न कि तुम्हारे बाण से|”

अर्जुन की भृकुटि तन गई| वह क्रोध में आकार बोला – “बाण मेरा लगा है| सूअर मेरे ही बाण से मरा है| न कि तुम्हारे बाण से|”

शिव बने किरात ने भी गुस्से से भरकर कहा – “तो फिर ठीक है| इसका फैसला युद्ध से हो जाए| जो जीत जाए, वही इसे मारने का वास्तविक अधिकारी माना जाएगा|”

फिर दोनों में भयानक युद्ध छिड़ गया| दोनों ओर से तीरों की वर्षा होने लगी| एक बाण छोड़ता तो दूसरा तत्काल उसे काट देता| काफी देर तक यह युद्ध चलता रहा| अर्जुन के सारे बाण समाप्त हो गए| वह चिंतित होकर सोचने लगा – ‘आश्चर्य है| मेरे सारे बाण समाप्त हो गए| किंतु किरात को एक खरोंच तक भी नहीं आई है| यह कैसा चमत्कार है?’ यह सोच उसने धनुष उठाया और उसकी डोरी से किरात को फंसा लिया| लेकिन अगले ही क्षण उसे एक तीव्र झटका-सा लगा| किरात ने न सिर्फ स्वयं को ही मुक्त करा लिया बल्कि अर्जुन को भी ऊपर उठाकर दूर पटक दिया| अर्जुन का पूरा जिस्म दर्द से भर उठा| गुस्से में भरकर उसने तलवार उठा ली और किरात पर टूट पड़ा| लेकिन किरात के शरीर से टकराते ही उसकी तलवार टूट गई| अर्जुन गुस्से से पागल हो उठा| वह पेड़ उखाड़-उखाड़ कर किरात पर प्रहार करने लगा| किंतु किरात तो जैसे फौलाद का बना हुआ था| उस पर रंचमात्र भी असर न हुआ| वह उसी तरह खड़ा मुस्कुराता रहा|

अर्जुन बहुत थक चुका था| उसका रोम-रोम पीड़ा से बेहाल हो गया| बेबस होकर वह पुन: भगवान शिव की प्रतिमा के पास पहुंचा और उनकी स्तुति करने लगा – “हे त्रिशूलधारी! यह कैसा चमत्कार है| एक साधारण-सा किरात और इतना बल| अब तुम्हीं मेरी रक्षा करो प्रभु!”

अर्जुन ने फूलों की माला शिव की प्रतिमा के गले में डाली| आराधना करते ही उसके शरीर में नवीन स्फूर्ति पैदा होने लगी| वह पुन: स्वस्थ होकर किरात की ओर बढ़ा, लेकिन अगले ही क्षण उसके आश्चर्य का पारावार न रहा| शिव की प्रतिमा पर उसके द्वारा चढ़ाई गई फूलों की माला किरात के गले में झूल रही थी| अर्जुन तुरंत समझ गया कि किरात कोई और न होकर स्वयं साक्षात शिव हैं| वह किरात के चरणों में पड़कर रुंधे गले से बोला – “मुझसे बड़ी भूल हुई भगवन! मुझ निर्बुद्धि को क्षमा कर दें| मैं आपको पहचान नहीं सका था| अनजाने में ही मुझसे बहुत बड़ा अपराध हो गया है|”

भगवान शिव अपने स्वरूप में प्रकट हो गए| उन्होंने अर्जुन की बांहें पकड़कर उसे उठाया और कहा – “उठो पुत्र! तुम्हारी परीक्षा पूरी हुई| तुमने कोई अपराध नहीं किया है| किरात का स्वरूप मैंने तुम्हारी परीक्षा लेने के लिए ही धारण किया था| तुम परीक्षा में सफल हुए| मैं तुम्हारी भक्ति से प्रसन्न हूं| मांगो पुत्र! क्या मांगते हो|”
अर्जुन बोला – “भगवान! मुझे पाशुपत अस्त्र चाहिए| ताकि युद्ध में मैं अपने शत्रु का संहार कर सकूं|”

शिव बोले – “पाशुपत तुम्हें मिल जाएगा पुत्र! लेकिन तुम्हें पहले उसे चलाने की विधि सीखनी पड़ेगी| अन्यथा वह तुम्हारे लिए ही विनाशकारी सिद्ध हो जाएगा|”

यह कहकर भगवान शिव ने उसे पाशुपत अस्त्र दिया और साथ ही उसे चलाने की विधि समझाते हुए बोले – “पुत्र! तुम इसे सिर्फ धर्म के कल्याण हेतु ही प्रयोग कर सकोगे| याद रखना क्रोध में इसे किसी निर्बल आदमी पर भूल से भी प्रयोग मत कर देना| और हां, इसका प्रयोग सिर्फ एक ही बार किया जा सकता है|”

पाशुपत अस्त्र देकर शिव तो पार्वती सहित अंतर्धान हो गए और अर्जुन पाशुपत लेकर अपने भाइयों से आ मिला| बाद में इसी पाशुपत से उसने महाभारत युद्ध में कर्ण का वध किया था|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

[content-egg module=Amazon template=list]

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏