🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँअसभ्य आचार्य – शिक्षाप्रद कथा

असभ्य आचार्य – शिक्षाप्रद कथा

असभ्य आचार्य - शिक्षाप्रद कथा

एक ग्राम में एक लड़का रहता था| उसके पिता ने उसे पढ़ने काशी भेज दिया| उसने पढ़ने में परिश्रम किया| ब्राह्मण का लड़का था, बुद्धि तेज थी| जब वह काशी से अपने ग्राम में लौटा तब व्याकरण का आचार्य हो गया था| गाँव में दूसरा कोई पढ़ा-लिखा था नहीं| सब लोग उसका आदर करते थे| इससे उसका घमण्ड बढ़ गया| एक बार उस गाँव में बारात आयी| बारात में दो-तीन बूढ़े पण्डित थे| विवाह में शास्त्रार्थ तो होता ही है| जब सब लोग बैठे, तब शास्त्रार्थ की बारी आयी|

सबसे पहले उस घमण्डी लड़के ने ही प्रश्न किया| पण्डितों ने धीरे से उत्तर दे दिया| अब पण्डितों में से एक ने उससे पूछा – ‘असभ्य किसे कहते हैं?’

लड़के ने बड़े रोबसे उत्तर दिया – ‘जो बड़ों का आदर न करे और उनके सामने उद्दण्ड व्यवहार करे|’

‘सम्भवत: आप यह भी मान लेंगे कि असभ्य पुरुष से बोलनेवाला भी असभ्य ही होता है|’

‘निश्चय!’ लड़के ने बड़े जोश से स्वीकार किया|

‘तब मैं आपसे बोलना बंद करता हूँ|’ वृद्ध पण्डित मुसकरा पड़े|

‘अर्थात?’ लड़का क्रोध से लाल हो उठा|

‘आपके पूज्य पिता तो वहाँ पीछे बैठे हैं और आप यहाँ डटे हैं| एक बार बुला तो लेना था उनको|’ पण्डित जीने व्यग्ङय किया|

‘मैं आचार्य हूँ|’ लड़के ने चिल्लाकर कहा|

पण्डित ने हँसते हुए कहा – ‘आचार्य होने से कोई सभ्य नहीं हो जाता| आपने अभी बुद्धिमानों का साथ नहीं किया है|’

लड़के का पिता ही लड़के से अधिक लज्जित हो रहा था|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏