🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏
Homeशिक्षाप्रद कथाएँआधी रहे न पूरी – शिक्षाप्रद कथा

आधी रहे न पूरी – शिक्षाप्रद कथा

आधी रहे न पूरी - शिक्षाप्रद कथा

सुन्दर वन नामक जंगल में एक शेर रहता था| एक दिन उसे बहुत भूख लगी तो वह आसपास किसी जानवर की तलाश करने लगा| उसे कुछ दूरी पर एक पेड़ के नीचे एक खरगोश शावक दिखाई दिया| वह पेड़ की छाया में मजे से खेल रहा था| शेर उसे पकड़ने के लिए आगे बढ़ा| खरगोश शावक ने उसे अपनी ओर देखा, तो वह जान बचाने के लिए कुलांचे भरने लगा|

मगर शेर की लम्बी छलांगों का वह कैसे मुकाबला करता था| शेर ने दो छलांगों में ही उसे दबोच लिया| फिर जैसे ही उसने उसकी गरदन चबानी चाही, उसकी नजर एक हिरन पर पड़ी|
उसने सोचा कि इस नन्हे खरगोश से मेरा पेट भर नहीं पाएगा, क्यों न हिरन का शिकार किया जाए| यह सोचकर उसने खरगोश को छोड़ दिया और हिरन के पीछे लपका| खरगोश का बच्चा उसके पंजे से छूटते ही नौ दो ग्यारह हो गया| हिरन ने शेर को देखा, तो लम्बी-लम्बी छलागें लगाता हुआ भाग खड़ा हुआ| शेर हिरन को नहीं पकड़ सका|

हाय-री – किस्मत! खरगोश भी हाथ से गया और हिरन भी नहीं मिला| शेर खरगोश के बच्चे को छोड़ देने के लिए पछताने लगा| वह सोचने लगा कि किसी ने सच ही कहा है जो आधी छोड़कर पूरी की तरफ भागते हैं, उन्हें आधी भी नहीं मिलती|

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

Munish Ahuja Founder SpiritualWorld.co.in

नम्र निवेदन: वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव कॉमेंट बॉक्स में लिखें, यह आपको अच्छा लगा हो तो अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.

🙏 सतनाम वाहे गुरु, गुरु पर्व की असीमित शुभकामनाएं... आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 23 Nov 2018 🙏