🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏
Homeआध्यात्मिक न्यूज़औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

लखनऊ, 3 नवम्बर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, स्टेशन रोड कैम्पस द्वारा सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में आयोजित किये जा रहे चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय युवा कामर्स एवं इकोनाॅमिक सम्मेलन ‘आई.वाई.सी.सी.ई.-2019’ के तीसरे दिन श्रीलंका, नेपाल, यू.ए.ई. एवं देश के कोने-काने से पधारे बाल अर्थशास्त्रियों ने आज औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही साथ हरित क्रान्ति का अभूतपूर्व अलख जगाया। जहाँ एक ओर विभिन्न प्रकार के वाणिज्यिक प्रजेन्टेशन व प्रबुद्ध हस्तियों के सारगर्भित विचारों ने सम्मेलन की महत्ता को उजागर किया तो वहीं दूसरी ओर देश-विदेश के बाल अर्थशास्त्रियों ने एड-वेन्चर (विज्ञापन प्रचार), साउण्ड आॅफ साइलेन्स (सामाजिक जागरूकता), कार्पोरेट काॅन्शस (मल्टीमीडिया प्रजेन्टेशन) एवं बी-प्लान (सृजनात्मक विचार) आदि प्रतियोगिताओं में अपने वाणिज्यिक ज्ञान का अभूतपूर्व प्रदर्शन कर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। ‘आई.वाई.सी.सी.ई.-2019’ के तीसरे दिन की शुरुआत आज देश-विदेश के बाल प्रतिभागियों द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम से हुई। इस अवसर पर विभिन्न देशों से पधारे छात्रों ने बड़े हर्षोल्लास के साथ वृक्षारोपण कर आद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का बिगुल बजाया एवं संदेश दिया कि सामाज के संतुलित विकास के लिए औद्योगिक विकास व प्राकृतिक संसाधन दोनों ही समान रूप से महत्वपूर्ण है।

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

‘आई.वाई.सी.सी.ई.-2019’ के तीसरे दिन मुख्य अतिथि डा. एम.एन. श्रीवास्तव, वरिष्ठ वैज्ञानिक, सी.डी.आर.आई. (से.नि.) ने अपने सारगर्भित व्याख्यान से प्रतिभागी छात्रों का मार्गदर्शन किया। उन्होंने प्रतिभागी छात्रों द्वारा बड़े उत्साह व जोर-शोर से वृक्षारोपण कार्यक्रम में भागीदारी की भरपूर प्रशंसा की और कहा कि स्वच्छ वायु व स्वच्छ जल में ही हर प्रकार के उद्योग-धंधे पनपते हैं और देश की प्रगति होती है। समारोह के मुख्य वक्ता डा. राजेन्द्र पी. ममगैन, प्रोफेसर, गिरी इन्स्टीट्यूट आॅफ डेवलपमेन्टल स्टडीज, लखनऊ, ने छात्रों को प्रोत्साहित किया कि वे अर्थशास्त्र व कामर्स में खूब तरक्की करें और देश की अर्थव्यवस्था के विकास में जरूरी सहयोग करें। उन्होंने छात्रों को सलाह दी कि जो भी कार्य करें, मानवता की भलाई को ध्यान में रखते हुए करें।

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

आई.वाई.सी.सी.ई.-2019 के अन्तर्गत प्रतियोगिताओं का सिलसिला आज प्रातः एड-वेन्चर प्रतियोगिता से हुआ, जिसमें 38 छात्र टीमों ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता में देश-विदेश की विभिन्न छात्र टीमों ने रंग-बिरंग परिधानों में मनमाफिक उत्पादों की मार्केटिंग कर अपनी कलात्मकता व सृजनात्मक क्षमता का परिचय दिया। किसी टीम ने चाॅकलेट का प्रचार किया तो किसी ने पौष्टिक खाद्य पदार्थ को तो किसी ने शैक्षिक सामग्री का प्रचार किया। इन नन्हें-मुन्हें छात्रों की प्रस्तुति देखकर ऐसा लग रहा था कि मानों यह विज्ञापन किसी प्रोफेशनल्स द्वारा किये जा रहे हों।

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

अपरान्हः सत्र में प्रो. गीता किंगडन, चेयर आॅफ एजुकेशन एण्ड इण्टरनेशनल डेवलपमेन्ट, यूनिवर्सिटी आॅफ लंदन, ने ‘रीसेन्ट ट्रेन्ड्स इन इकोनाॅमिक्स’ विषय पर अर्थपूर्ण व्याख्यान देकर देश-विदेश से पधारे छात्रों का खूब मार्गदर्शन किया। प्रो. किंगडन ने कहा कि वित्तीय संसाधनो का विवेकपूर्ण प्रबन्धन व उपयोग ही इस क्षेत्र में सफलता का मूलमंत्र है। उन्होंने छात्रों को व्यक्तित्व विकास की सलाह देते हुए कहा कि आय का बढ़ना क्षमता अथवा काबिलियत बढ़ने से सम्बन्धित है।

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

अपरान्हः सत्र की प्रतियोगिताओं में साउण्ड आॅफ साइलेन्स (सामाजिक जागरूकता) प्रतियोगिता के माध्यम से देश-विदेश के छात्रों ने विभिन्न क्षेत्रों में सामाजिक जागरूकता की गंगा बहाई एवं लोगों को सामाजिक विकास में अपनी भूमिका निभाने हेतु प्रोत्साहित किया। इसी प्रकार कार्पोरेट काॅन्शस (मल्टीमीडिया प्रजेन्टेशन) एवं बी-प्लान (सृजनात्मक विचार) प्रतियोगिताओं में भी देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों का उत्साह देखने लायक था। जहाँ एक ओर ‘कार्पोरेट काॅन्शस प्रतियोगिता’ के अन्तर्गत देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने ‘ईको-फ्रेण्डली इण्डस्ट्री प्रजेन्टेशन’ के माध्यम से प्राकृतिक संसाधनों के औचित्यपूर्ण दोहन एवं पर्यावरण संरक्षण की महत्ता को दर्शाते हुए विकासपरक उद्योगों का खाका प्रस्तुत किया तो वहीं दूसरी ओर ‘बी-प्लान (सृजनात्मक विचार)’ के अन्तर्गत बीमार उद्योगों को पुनर्जीवन देने की अपनी कल्पनाशीलता को प्रस्तुत किया।

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

औद्योगिक क्रान्ति के साथ ही हरित क्रान्ति का अलख जगाया देश-विदेश के प्रतिभागी छात्रों ने

सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. स्टेशन रोड कैम्पस के तत्वावधान में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय कामर्स एवं इकोनाॅमिक्स सम्मेलन ‘‘आई.वाई.सी.सी.ई.-2019’’ बड़ी ही सफलतापूर्वक अपने समापन की ओर बढ़ रहा है। कल, 4 नवम्बर, को अपरान्हः 3.00 बजे आई.वाई.सी.सी.ई.-2019 का भव्य पुरस्कार वितरण एवं समापन समारोह आयोजित होगा जिसमें देश-विदेश के विजयी छात्रों को पुरष्कृत कर सम्मानित किया जायेगा। इस अवसर पर सी.एम.एस. छात्र देश-विदेश से पधारे प्रतिभागी छात्रों व टीम लीडरों के सम्मान में रंगारंग शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे।

(हरि ओम शर्मा)
मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी
सिटी मोन्टेसरी स्कूल, लखनऊ

FOLLOW US ON:
सी.एम.एस
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏