Homeसिक्ख गुरु साहिबानश्री गुरु हरि कृष्ण जीश्री गुरु हरि कृष्ण जी - साखियाँअनपढ़ झीवर से गीता के अर्थ कराने – साखी श्री गुरु हरि कृष्ण जी

अनपढ़ झीवर से गीता के अर्थ कराने – साखी श्री गुरु हरि कृष्ण जी

कीरतपुर से दिल्ली को जाते हुए गुरु जी अम्बाले के पास पंजोखरे गाँव में ठहरे| पंडित जो उसी गाँव के रहने वाले थे आपसे कहने लगे कि आप छोटी उम्र में ही ईश्वर अवतार और गुरु कहलाते हो| 

“अनपढ़ झीवर से गीता के अर्थ कराने – साखी श्री गुरु हरि कृष्ण जी” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Listen Audio

अगर आपमें शक्ति है तो मुझे आप गीता के अर्थ करके दिखाओ| पंडित की ऐसी बात सुनकर गुरु जी ने कहा, पंडित जी! अगर अपने गीता के अर्थ सुनने हैं तो अपने गाँव में से किसी आदमी को लेकर आओ, हम उससे ही गीता के अर्थ आपको सुनवा देंगे|

गुरु जी की यह बात सुनकर पंडित जी ने एक अनपढ़ झीवर को बुलाया| गुरु जी ने उस झीवर को हाथ मुँह धुलवा कर एक आसन पर बिठा दिया| गुरु जी ने अपने हाथ की छड़ी उसके सिर पर रख कर कहा कि “पंडित जी को गीता के अर्थ करके सुनाओ|” गुरु जी की कृपा से उस झीवर ने गीता पड़कर शास्त्र अनुसार अर्थ करके पंडित को सुनाए|

गुरु जी के ऐसे कौतक को देखकर पंडित जी दंग रह गए| उनकी ऐसी प्रत्यक्ष शक्ति को देखकर पंडित ने गुरु जी को प्रणाम किया और क्षमा माँगी| अब इस स्थान पर एक सुन्दर गुरुद्वारा बना हुआ है|

 

Khalsa Store

Click the button below to view and buy over 4000 exciting ‘KHALSA’ products

4000+ Products

 

🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏