🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeपरमार्थी साखियाँधृतराष्ट्र का अन्धा होना

धृतराष्ट्र का अन्धा होना

एक बार धृतराष्ट्र ने भगवान् कृष्ण से पूछा कि मैं अन्धा क्यों हूँ| मुझे पिछले सौ जन्मों की तो ख़बर है| इन सौ जन्मों में मैंने ऐसा कर्म नहीं किया जिसके कारण मैं जन्म से अन्धा हूँ| श्री कृष्ण ने धृतराष्ट्र के सिर पर हाथ रखकर कहा कि और पीछे देखो| जब देखा तो एक सौ छः जन्म पहले का एक ऐसा कर्म निकला जिसके कारण वह अन्धा हुआ|

सो कर्मों का जाल बड़ा पेचीदा है|

जीव अपने सब सुख-दुःख प्रारब्ध कर्मों के अनुसार पाता है
और मनुष्य जैसे भले-बुरे कर्म करता है, उनके अनुसार वैसे ही
ऊँच-नीच योनियाँ भोगता है| (महाराज सावन सिंह)

FOLLOW US ON:
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏