🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeघरेलू नुस्ख़ेखाद्य पदार्थों के स्वास्थ्य लाभअदरक के 16 स्वास्थ्य लाभ – 16 Health Benefits of Ginger

अदरक के 16 स्वास्थ्य लाभ – 16 Health Benefits of Ginger

आर्द्रक अर्थात् अदरक का अर्थ है – नमी की रक्षा करने वाली गुणकारी प्राकृतिक जड़ी| यही अदरक सूखने के बाद सोंठ बन जाती है| इसमें जितना जल होता है, उतनी ही उष्णता भी होती है|

“अदरक के 16 स्वास्थ्य लाभ” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Health Benefits of Ginger Listen Audio

अदरक की तासीर गरम-तर मानी जाती है| इसका उपयोग दोनों रूपों में अलग-अलग रोग के अनुसार होता है| इसे श्रृंगवेर भी कहते हैं, क्योंकि इसकी गांठों में सींग होते हैं| अदरक जंगली जड़ी-बूटी होने के साथ-साथ कंदमूल भी है| अत: इसे कच्चा भी खाया जाता है| अदरक को सब्जी में डालने से यह स्वास्थ्य को स्थिर रखता है| इसलिए यह दवा और टॉनिक दोनों है| शास्त्रों में अदरक को ‘महौषध’ कहा गया है|

अदरक मांसपेशियों का तनाव समाप्त करता है| पिंडलियों में दर्द हो, हाथ-पैर टूट रहे हों, गरदन अकड़ गई हो या कमर में दर्द हो – अदरक सबका दुःख दूर करता है| इसीलिए इसका सेवन घबराहट, दिल धड़कना, बेचैनी, दाढ़-दांत का दर्द, तनाव एवं ऐंठन में धड़ल्ले से किया जाता है| वैद्याचार्य चरक ने कहा है कि सूखी अदरक यानी सोंठ बलवर्द्धक है| उनकी दृष्टि में यह वृष्य है अर्थात् इसके सेवन से मनुष्य के शरीर में सांड़ के समान शक्ति आ जाती है| यह जिगर के रोगों को दूर करके रस, रक्त, वीर्य को पुष्ट करता है| जो लोग जाड़े के दिनों में अदरक और शहद का सेवन करते हैं, वे स्वस्थ एवं चुस्त रहते हैं| यह वायु रोग, खांसी, दमा आदि को दूर करके शरीर में ऊर्जा का संचरण करता है| यह सर्दी-गरमी सभी प्रकार के वातावरण में लाभदायक है| इसके प्रमुख औषधीय उपयोग हम नीचे प्रस्तुत कर रहे हैं –

 

अदरक के 16 औषधीय गुण इस प्रकार हैं:

1. अजीर्ण

अदरक की एक गांठ पीसकर उसमें थोड़ा-सा नीबू निचोड़ लीजिए| अब इसमें चुटकी भर सेंधा नमक डालें| इस चटनी को खाने के बाद भोजन करने से पाचन क्रिया बढ़ेगी और अजीर्ण रोग ठीक हो जाएगा|


2. अपच

भोजन के बाद एक चम्मच अदरक का रस सेंधा नमक मिलाकर लेने से भोजन शीघ्र पच जाता है|


3. अफरा

5-5 ग्राम अदरक और नीबू का रस शहद में मिलाकर दिन में चार बार सेवन करें| अफरा रोग दूर हो जाएगा|


4. अरुचि

अदरक का रस दो चम्मच और कालीमिर्च के पांच दोनों का चूर्ण-दोनों को शहद के साथ सेवन करने से अरुचि दूर हो जाती है|


5. दस्त

एक कप पानी में 5 ग्राम अदरक कूटकर आग पर चढ़ा दें| ढक्कन बंद करके पानी को खौलने दें| जब पानी आधा कप रह जाए तो उसमें जरा-सा सेंधा नमक डालकर पी जाएं| दस्तों को रोकने की यह बेजोड़ दवा है|


6. गठिया (आमवात)

अदरक की चार-पांच गांठों के छोटे-छोटे टुकड़े कर लें| अब इसे देशी घी में भून डालें| भोजन से पहले दो गांठें चबाकर खाएं| सोंठ के 20 ग्राम चूर्ण को तिली के तेल में पकाकर गठिया वाले जोड़ों पर मालिश करें| दोनों प्रयोग 40 दिनों तक करने पर गठिया रोग चला जाएगा|


7. आंतों में पीड़ा

आंतों में मल सूख जाने के कारण पीड़ा शुरू हो जाती है| ऐसी हालत में 2 ग्राम सोंठ, 2 ग्राम हींग और 3 ग्राम कालीमिर्च – तीनों को पीस डालें| इस चूर्ण को भोजन के बाद दोपहर और रात को फांककर पानी पी लें| इससे आंतों की पीड़ा दूर हो जाएगी|


8. फ्लू

एक गांठ अदरक, चार पत्तियां तुलसी और 5 दाने कालीमिर्च – इन सबका काढ़ा बनाकर पीने से फ्लू का रोग जाता रहता है| यह काढ़ा सुबह-शाम तीन दिनों तक पिया जाता है|


9. पेट का दर्द

सोंठ, हींग तथा लहसुन की चटनी को पानी में घोलकर पेट के ऊपर लेप करें| कालीमिर्च हींग, अदरक तथा सेंधा नमक की चटनी का सेवन भी दो-दो घंटे बाद करें|


10. उल्टी

एक गांठ अदरक, 10 ग्राम अनारदाना, दो दाने मुनक्का तथा थोड़ी-सी मिश्री – सबको पीसकर नीबू के रस में मिलाकर चाटने से उल्टी होनी बंद हो जाती है|


11. अम्लपित्त (एसिडिटी)

सूखा धनिया तथा सोंठ – दोनों 25-25 ग्राम की मात्रा में कूट लें| इसकी तीन खुराक करें| एक-एक खुराक का ताजा काढ़ा बनाकर दिनभर में सेवन करने से अम्लपित्त का रोग चला जाएगा|


12. कमर दर्द

सोंठ के चूर्ण में पानी मिलाकर कमर पर लेप लगाएं| इससे कमर का दर्द जाता रहेगा|


13. कान दर्द

अदरक का रस गरम करके बूंद-बूंद कान में डालने से कान का दर्द दूर हो जाता है|


14. खुजली

प्रतिदिन रोटी में अदरक की चटनी भरवाकर खाने से कुछ ही दिनों में खुजली जाती रहेगी|


15. खांसी

अदरक का रस और शहद मिलाकर कुछ दिनों तक सुबह-शाम चाटने से खांसी ठीक हो जाती है|


16. दमा

अदरक और बांसा का रस बराबर की मात्रा में शहद के साथ कुछ दिनों तक चाटने से दमा का रोग चला जाता है|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏