Homeघरेलू नुस्ख़ेखाद्य पदार्थों के स्वास्थ्य लाभसरसों तेल के 16 स्वास्थ्य लाभ – 16 Health Benefits of Mustard Oil

सरसों तेल के 16 स्वास्थ्य लाभ – 16 Health Benefits of Mustard Oil

सरसों तेल के 16 स्वास्थ्य लाभ - 16 Health Benefits of Mustard Oil

इसकी प्रकृति गर्म है, संभवतया इसी कारण यह शरीर में पित्त को बढ़ाता है| यह रक्त के बहाव में भी तेजी लाता है| यह पेट के कीड़े नष्ट करने में समक्ष है| इसके साथ ही यह निम्न रोगों में भी अत्यन्त लाभकारी है|

सरसों तेल के 16 औषधीय गुण इस प्रकार हैं:

1. गैस/वायु

पेट पर नाभि के चारों ओर मालिश करने से लाभ होता है|


2. दर्द

50 ग्राम सरसों के तेल में पांच ग्राम कपूर मिलाकर मालिश करने से शरीर का दर्द ठीक हो जाता है|


3. सूजन

सर्दियों में उंगलियों में सूजन आ जाती है| सरसों के तेल में सैंधा नमक मिलाकर गर्म करें तथा रात को इस तेल को उंगलियों पर लगाकर मौजे पहन कर सोयें, सूजन मिट जाएगी|


4. नासूर

आक के दूध में रुई की बत्ती भिगोकर सुखा लें फिर सरसों के तेल में जला कर मिट्टी के बर्तन में काजल बनाकर नासूर पर लगाएं|


5. सिरदर्द

ठंड से सिर-दर्द हो, ठंडे पानी से स्नान करने, ठंडी हवा में घूमने के कारण सिर-दर्द हो तो नाक, कान नाभि और तलवों पर सरसों का तेल लगाएं, लाभ होगा|


6. आधी सीसी का दर्द

(आधे सिर का दर्द) सिर के जिस आधे भाग में दर्द हो उस नथुने में 8 बूंद सरसों का तेल डालकर सूंघने से आधे सिर का दर्द बन्द हो जाता है| यह प्रयोग चार-पांच दिन करें|


7. पैर फटना

सर्दियों में पैर फट जाएं, तो सोते समय सरसों का तेल लगाकर, पिसी हुई हल्दी ऊपर डालकर सो जाएं| कुछ दिन करने से फटे हुए पैर ठीक हो जाते हैं|


8. जमजूं

20 ग्राम सरसों का तेल, 25 ग्राम नींबू का रस मिलाकर लगाएं, जम जूं नष्ट हो जाएंगी|


9. स्तन विकार

(स्तनों का उभार) स्त्री के स्तनों पर सरसों के तेल की नित्य मालिश करने से स्तनों में मोटापन एवं उभार आता है|


10. होंठ फटना

सीने से पहले सरसों का तेल नाभि पर लगाने से होंठ नहीं फटते|


11. कर्ण रोग

कान में कीड़ा चला गया हो तो सरसों के तेल का गर्म करके डालने से कीड़ा बाहर आ जाता है सरसों का तेल कान में डालने से कान का दर्द, कान में आवाज और बहरेपन में लाभ होगा| इससे श्वास रोग दब जाता है और कफ की गांठ निकल जाती है|


12. जलना

जले हुए अंग पर सरसों का तेल लगाने से छाला नहीं पड़ता|


13. नाभि के रोग

नाभि के स्थान से हटने, सही काम न करने से प्राय: पेट में दर्द, गैस, दस्त, भूख न लगना आदि विकार हो जाते हैं| रोग की तीव्रता होने पर रुई का फोया तेल में भर कर इसे नाभि पर रखें और पट्टी से बांध दें| इसके अतिरिक्त श्वास-कास, सिर-दर्द, वातव्याधि, उन्माद, अपस्मार, कमर का दर्द आदि में भी नाभि पर तेल लगाने से लाभ होता है| यह एक सप्ताह तक लगा सकते हैं| नाभि पर तेल लगाने के बाद शीतल पेय नहीं पीना चाहिए, बल्कि आराम करना चाहिए|


14. कब्ज

सरसों के तेल द्वारा पेट की मालिश करने से कब्ज दूर होता है|


15. दन्त रोग

(दांत दर्द) एक-दो बार सरसों का तेल एक नथुने से सूंघने पर दांत का दर्द कुछ समय के लिए बंद हो जाता है| इसे सूंघने से नाक, कान, नेत्र और सिर को शक्ति मिलती है| सरसों का तेल, नींबू का रस, सैंधा नमक मिलाकर मंजन करने से दांत साफ होते हैं| दांत का हिलना भी बन्द होता है| नमक बहुत बारीक कपड़े में छानकर, सरसों के तेल में मिलाकर मंजन करने से भी दांत-दर्द, मसूड़े आदि फूलना ठीक हो जाता है|


16. मालिश

शीत ऋतु में त्वचा की रूक्षता मिटाने एवं स्निग्ध बनाए रखने के लिए शरीर की मालिश करनी चाहिए| इससे त्वचा सुन्दर दिखती है| मालिश के लिए सरसों का तेल उपयोग में लें| रात को सोते समय सरसों के तेल की मालिश करने से मच्छर नहीं काटते| कसरत से थकान होने पर पैरों पर मालिश करने से लाभ होता है| भाव प्रकाश में लिखा है कि पैरों के तलवों में तेल की मालिश करने से उनमें स्थिरता रहती है, नींद गहरी आती है, आंखों की रोशनी बढ़ती है; पैरों का फटना बन्द होता है; पैरों का सो जाना, थकावट, स्तम्भ तथा संकोच मिटता है| पैरों में किसी भी प्रकार के रोग नहीं होते|

NOTE: इलाज के किसी भी तरीके से पहले, पाठक को अपने चिकित्सक या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता की सलाह लेनी चाहिए।

Consult Dr. Veerendra Aryavrat - +91-9254092245 (Recommended by SpiritualWorld)
Consult Dr. Veerendra Aryavrat +91-9254092245
(Recommended by SpiritualWorld)

Health, Wellness & Personal Care Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 50000 exciting ‘Wellness & Personal Care’ products

50000+ Products
आक के 17 स
शहद के 47
Rate This Article: