Homeहिन्दू व्रत, विधि व कथावट सावित्री व्रत – Vat Savitri Vrat

वट सावित्री व्रत – Vat Savitri Vrat

वट सावित्री व्रत ज्येष्ट मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या को सम्पन्न किया जाता है| यह स्त्रियों का महत्वपूर्ण पर्व है| इस दिन सत्यवान, सावित्री तथा यमराज की पूजा की जाती है| सावित्री ने इसी व्रत के प्रभाव से अपने मृतक पति सत्यवान को धर्मराज से छुड़ाया था|

“वट सावित्री व्रत” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Audio Vat Savitri Vrat

विधि:

वट वृक्ष के नीचे मिटटी की बानी सावित्री और सत्यवान तथा भैंसे पर सवार यम की प्रतिमा स्थापित कर पूजा करनी चाहिए तथा बड़ की जड़ में पानी देना चाहिए| पूजा के लिए जल, मौली, रोली, कच्चा सूत, भिगोया हुआ चना, फूल तथा धूप होनी चाहिए| जल से वट वृक्ष को सींच कर तने के चारों ओर कच्चा धागा लपेटकर तीन बार परिक्रमा करनी चाहिए| इसके बाद सत्यवान और सावित्री की कथा सुननी चाहिए| कथा के बाद भीगे हुए चनों का बायना निकालकर उस पर यथाशक्ति रूपये रखकर अपनी सास को देना चाहिए तथा उनके चरण स्पर्श करना चाहिए|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏