🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeहिन्दू व्रत, विधि व कथागौ गिरिराज व्रत – Gau Giriraj Vrat

गौ गिरिराज व्रत – Gau Giriraj Vrat

यह व्रत भाद्रपद शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को किया जाता है|
इस दिन गौ की पूजा करने का विधान है| साथ में भगवान लक्ष्मीनारायण जी की भी पूजा करनी चाहिए| 

“गौ गिरिराज व्रत” सुनने के लिए Play Button क्लिक करें | Audio Gau Giriraj Vrat

विधि:

प्रथम एक मंडप तैयार कर भगवान की प्रतिमा को स्नान करा कर स्थापित करें, गौओं की पूजा में निम्न मंत्र पढकर गायों को नमस्कार करें :-

पंचगाँव समुत्पन्नाः मध्यमाने महोदधौ |
तेसा मध्ये तू यानन्द तस्मैः धेन्वे नमो नमः ||

अर्थात: क्षीर सागर का मंथन होने पर उस समय पाँच गायें पैदा हुईं| उनके बीच में नन्द नाम वाली गाय है| उस गाय को बारम्बार नमस्कार है|

पुनः निम्न मंत्र को पढकर गाय ब्रह्मण को दान कर दे :-

गावों मामग्रमः सन्तु गावों में सन्तुपृष्ठतः |
गावों में पश्व्र्तः सन्तु गवाँ मध्ये वसभ्यहम ||

अर्थात: गाएँ मेरे आगे, पीछे रहें| गाएँ मेरी बगल में रहें और मैं गायों के बीच में निवास करता रहूँ|

इसके बाद ब्रह्मण को दक्षिणा देकर आदर सत्कार सहित विदा करें| जो इस व्रत को करता है वह सहस्रों अश्वमेघ और राजसूय यज्ञ का पल प्राप्त करता है|

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏