🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏

112. Al-Ikhlas (1 to 4)

112. Al-Ikhlas (1 to 4)

Say, “He is Allah , [who is] One, Allah , the Eternal Refuge., He neither begets nor is born,…

112.1

1 ‏قُلْ هُوَ ٱللَّهُ أَحَدٌ ‎
qul huwa ‘ll:ahu ‘ʔaḥadun

Say, "He is Allah , [who is] One,

112.2

2 ‏ٱللَّهُ ٱلصَّمَدُ ‎
‘ll:ahu ‘lṣ:amadu

Allah , the Eternal Refuge.

112.3

3 ‏لَمْ يَلِدْ وَلَمْ يُولَدْ ‎
lam yalid walam yuwlad

He neither begets nor is born,

112.4

4 ‏وَلَمْ يَكُن لَّهُۥ كُفُوًا أَحَدٌۢ ‎
walam yakun l:ahuw kufuwan’ ‘ʔaḥadunm

Nor is there to Him any equivalent."
POST TAGS:
FOLLOW US ON:
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏