🙏 जीवन में कुछ पाना है तो झुकना होगा, कुएं में उतरने वाली बाल्टी झुकती है, तब ही पानी लेकर आती है| 🙏
Homeभजन संग्रहश्री साईं बाबा जी के भजनसाँई कैसा तेरा ये विधान न सब दिन एक समान

साँई कैसा तेरा ये विधान न सब दिन एक समान

भजन - श्री साईं बाबा जी - साँई कैसा तेरा ये विधान न सब दिन एक समान

साँई कैसा तेरा ये विधान न सब दिन एक समान
हे साँई बाबा हे साँई बाबा
साँई कैसा तेरा ये विधान न सब दिन एक समान

इक दिन हरिश्च्न्द्र भरे ख़ज़ाना – 4
फिर माँगे कफ़न का दान
न सब दिन एक समान

इक दिन रामचन्द्र चढ़े विमाना – 4
फिर हुआ उनका बनवास
न सब दिन एक समान

इक दिन बालक भयो सयाना – 4
फिर जाकर जरे मसान
न सब दिन एक समान

कहत कबीरा पद निरवाना – 4
जो समझे चतुर सुजान
न सब दिन एक समान

साँई कैसा तेरा ये विधान
न सब दिन एक समान

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT

🙏 ♻ प्रयास करें कि जब हम आये थे उसकी तुलना में पृथ्वी को एक बेहतर स्थान के रूप में छोड़ कर जाएं। सागर में हर एक बूँद मायने रखती है। ♻ 🙏