Homeभजन संग्रहश्री राम जी के भजनरोम रोम में रमा हुआ है

रोम रोम में रमा हुआ है

भजन - श्री राम जी - रोम रोम में रमा हुआ है

रोम रोम में रमा हुआ है,
मेरा राम रमैया तू,
सकल सृष्टि का सिरजनहारा,
राम मेरा रखवैया तू,
तू ही तू, तू ही तू, …

डाल डाल में, पात पात में,
मानवता के हर जमात में,
हर मज़ेहब, हर जात पात में
एक तू ही है, तू ही तू,
तू ही तू, तू ही तू, …

सागर का ख़ारा जल तू है,
बादल में, हिम कण में तू है,
गंगा का पावन जल तू है,
रूप अनेक, एक है तू,
तू ही तू, तू ही तू, …

चपल पवन के स्वर में तू है,
पंछी के कलरव में तू है,
भौरों के गुंजन में तू है ,
हर स्वर में ईश्वर है तू,
तू ही तू, तू ही तू, …

‘तन है तेरा, मन है तेरा,
प्राण हैं तेरे, जीवन तेरा,
सब हैं तेरे, सब है तेरा’,
पर मेरा इक तू ही तू,
तू ही तू, तू ही तू, …

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

राम हि र
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏