Homeभजन संग्रहश्री राम जी के भजनराम रस मीठा रे, कोइ पीवै साधु सुजाण

राम रस मीठा रे, कोइ पीवै साधु सुजाण

भजन - श्री राम जी - राम रस मीठा रे, कोइ पीवै साधु सुजाण

राम रस मीठा रे, कोइ पीवै साधु सुजाण ।

सदा रस पीवै प्रेमसूँ सो अबिनासी प्राण ॥टेक॥

इहि रस मुनि लागे सबै, ब्रह्मा-बिसुन-महेस ।

सुर नर साधू स्म्त जन, सो रस पीवै सेस ॥१॥

सिध साधक जोगी-जती, सती सबै सुखदेव ।

पीवत अंत न आवई, पीपा अरु रैदास ।

पिवत कबीरा ना थक्या अजहूँ प्रेम पियास ॥३॥

यह रस मीठा जिन पिया, सो रस ही महिं समाइ ।

मीठे मीठा मिलि रह्या, दादू अनत न जाइ ॥४॥

 

Spiritual & Religious Store – Buy Online

Click the button below to view and buy over 700,000 exciting ‘Spiritual & Religious’ products

700,000+ Products

 

मेरे मन
🙏 धर्म और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाने में हमारा साथ दें| 🙏